followers

शनिवार, 22 फ़रवरी 2014

कुत्ते घोसला नहीं बनाते !

कुत्ते  घोसला  नहीं  बनाते  !
बुझे राख की आग पर बैठ
गुजार लेते है अपना वक़्त

चुप रहते है
जब तक खिलाता  है कोई
मख्खनदार बिस्कुट

खाने के लिए
पिने के लिए
और झगड़ पड़ते है
किसी कुतिया के लिए भीं

गौर फरमाएं ...
शायद की कोई
हिन्दू गली का कुत्ता
मुसलमान को देखकर ना भूके
या फिर मुस्लिम गली का कुत्ता
हिंदुओं  को देखकर//

और सबसे बड़ी बात
सिर्फ सड़क छाप कुत्ते ही नहीं
पालतू कुत्ते भी काट लेते है
मालिक को

वैसे कुत्ते चुनिए
जो भौकने के अलावे
और भी कुछ जानता हो
और
न करता  हो पेशाब इधर-उधर
अपनी टांगें उठाकर //
 

रविवार, 2 फ़रवरी 2014

आग से

तुम कितने डरपोक हो आग
घर भी जलाते हो तो गरीबों का //

देखो तो ..
तुम्हारे सात फेरे लेकर
किये गए वादे
टूट रही है भरभराकर

तुम गला देते हो .
लोहे और अलमुनियम
बना देते ही ईट
कच्ची मिटटी से
तुम कब जला पाओगे
आदमी  के लोभ/लालच/काम/क्रोध
मगर !
और धन लोलुप्ता
तुम्हारा कमाल एक ही बार दिखा है ..
जब प्रह्लाद को न जलाकर
,तुमने जला दिया था होलिका को //

पर उपदेश कुशल बहुतेरे

हर कोई सिखाता है ,गिर कर उठने का हुनर
फिर पता चलता है
सिखाने वाला खुद गिरा हुआ था //

हर कोई सिखाता है ,सत्य पर चलने का हुनर
फिर पता चलता है
सिखाने वाला अनाड़ी था//

हर कोई संकल्प दिलाता है ,चोरी  करना पाप है
फिर पता चलता है ..
सीखने वाला चोरो का सरदार है //

बाबा और संत सिखाते  है ,चरित्र दृढ रखने के गुण
फिर पता चलता है
उनसे ज्यादा चरित्र हिन् कोई नहीं //

मेरे बारे में