followers

सोमवार, 18 जून 2012

ओ मेघ ! तू बरस

ओ मेघ ! तू  बरस
घनघोर बरस
तू उनके लिए  बरस
जिनके कुएं
सरकारी पन्नों पर बने हैं //

ओ मेघ ! तू बरस
घनघोर बरस
फाड़  दे
जनता के कान पर जमे
भाषणों और अश्वाश्नों की काई को //

ओ मेघ ! तू बरस
घनघोर बरस
इतना बरस
टूट जाए तटबंध नदियों की
खोल दे पोल
इन्जिनीर और ठ्केदार के मिलीभगत की //

15 टिप्‍पणियां:

  1. जबरजस्त ...सार्थक रचना भाई जी !

    उत्तर देंहटाएं
  2. खेतों और किसानों और लोगों की प्‍यास बुझा दे मेघ, बाकी काम के लिए तो पूरी पलटन तैयार है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही सार्थक रचना । आज के दौर में सरकारी कामो में जो गफले चल रहे हैं उसे उजागर कर दिया

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर और प्रासंगिक रचना ...............

    उत्तर देंहटाएं
  5. वर्षा ऋतू ... पोल खोलक भी होती है आज पता .... चला वाह सर जी

    उत्तर देंहटाएं
  6. vyangya . sarkari tantra par:)
    behtareen... varsha ritu bata hi deti hai. kya kaise kyon chal raha hai files me:)

    उत्तर देंहटाएं
  7. bahut sunder likha aapne....sahi hai pol khulne do jara unki bhi...

    उत्तर देंहटाएं
  8. सरकारी मशीनिरी और आम जन कि अकर्मन्यता पर बेहतरीन कटाक्ष...

    उत्तर देंहटाएं
  9. ओ मेघ ! तू बरस
    घनघोर बरस
    इतना बरस
    टूट जाए तटबंध नदियों की
    खोल दे पोल
    इन्जिनीर और ठ्केदार के मिलीभगत की //
    बेहतरीन कटाक्ष...

    उत्तर देंहटाएं
  10. पोल खोलने वाले मेघ...रोचक...कितनों को भयभीत कर रहे होंगें...

    उत्तर देंहटाएं
  11. वर्षा की पहली फुहारों ने बगीचों के फूलों ,हरी पत्तियों को नहला सा दिया , लाल गुलमोहर .. जो वर्षा ऋतू में कम ही दिखाई देते हैं , ने मानो ... नै लाल रंग की लिपस्टिक लगा ली है // हरी पत्तियों के ऊपर के धूल हट जाने से ... फोटो सिंथेसिस तेजी से शुरू हुआ ... जिससे उनकी हरीतिमा ... में अनोखा सौन्दर्य छाया गया है ... आइये वर्षा ऋतू के आने के बाद .. प्रकृति में आये बदलाब का अवलोकन करे

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में