followers

बुधवार, 11 जून 2014

" अखबार "

सोचता  हूँ
कब  पढ़ पाउँगा .
अखबार ....
जिसमे न छपी हो ..
दुष्कर्म की कहानी ..
महगाई की मार..
हिन्दू-मुस्लिम के बीच मार-काट की ख़बरें
जेब-कटाई की ख़बरें//

जिसमे लिखा  मिले..
सबको पीने का पानी मिल गया...
सबको रहने को घर हो गया
गंगा निर्मल हो गई ...
नेता जो बोलेंगे /वही करँगें
बूढ़े माँ बाप बेटे के घर में रहने लगे //

मुझे इंतज़ार है ...
एक ऐसे अखबार के छपने का


10 टिप्‍पणियां:

  1. ऐसे अखबार के लिए देश को बदलना होगा...मेरे एक मित्र इज़राइल रह कर आये बता रहे थे कि युद्ध और विभीषिका की खबरें पिछले पन्नों पर होतीं है...मुख्य पृष्ठ पर खुशगवार ख़बरों-चित्रो को जगह दी जाती है...

    उत्तर देंहटाएं
  2. भारत में भी यह लागू हो... तो अच्छा रहे

    उत्तर देंहटाएं
  3. ऐसा होना केवल एक स्वप्न है...

    उत्तर देंहटाएं
  4. उत्तर
    1. आइये प्रयास करते है ..

      हटाएं
    2. मैं तो उलूक टाइम्स छाप ही रहा हूँ :)

      हटाएं
  5. शायद इस सदी में तो ये संभव नहीं ... हाँ मिल के प्रयास करें तो शायद हो सके ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. शुभ कामनाएँ।
    जय श्रीराम।।

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में