followers

गुरुवार, 14 अप्रैल 2011

अनोखा प्यार


नहीं गन्दा करना चाहता
क़ुतुब मीनार की दीवारें
तुम्हारा नाम लिखकर //

हर सुबह ....
हरी दूब की फुनगियों पर टिके
हर शबनम पर
तेरा नाम लिखता हूँ
यह जानते हुए भी कि
कुछ पल मिट जायेगी ये शबनम
सूरज की तपिश से //

फिर भी ...
रोज लिखता रहूंगा तेरा नाम
क्योकि ...
मुझे फैलानी है
तेरे नाम की खुशबू
पुरे जहाँ में //

9 टिप्‍पणियां:

  1. फिर भी ...
    रोज लिखता रहूंगा तेरा नाम क्योंकी ...मन में जो सदा बसती हो तुम सुबह शाम..

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही अच्‍छी कविता लिखी है
    आपने काबिलेतारीफ बेहतरीन

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर और उत्तम भाव लिए हुए.... खूबसूरत रचना......

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत कोमल अहसास। सुंदर अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  5. क्योकि ...
    मुझे फैलानी है
    तेरे नाम की खुशबू
    पुरे जहाँ में //

    बहुत सुंदर प्यार भरे अहसास ..सच में प्यार की खुशबु सारे जग में फैलनी चाहिए ..ताकि यह वातावरण सुदर बना रहे आपका आभार इस रचना के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (16.04.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही अच्‍छी कविता लिखी है

    Dhananajay Mishra

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में