followers

शनिवार, 28 मई 2011

अब तो इन्द्रधनुष भी फीके


तेरी लम्बी -लम्बी चोटी में
हर कोई उलझना चाहे
तेरी सांसो की खुशबू में
हर कोई तरसना चाहे
संग-संग तेरे बोल-बैठ कर
हर कोई महकना सीखे
तेरे गालों की डिम्पल के आगे
अब तो इन्द्रधनुष भी फीके //


नाक नुकीली ,नयन हैं तीखे
अधरें तेरी कमल सरीखे
तुम्हें देख, तितली शरमाई
और भौरों ने ली अंगडाई
है दूब पर बैठी जब तुम
ले रही थी ,पवन के झोंकें
संग-संग रह कर तेरे
सूख गए अब दिल के फोके //
तेरे गालों की डिम्पल के आगे
अब तो इन्द्रधनुष भी फीके //

8 टिप्‍पणियां:

  1. क्या बात कही है ...
    तेरे गालों की डिम्पल के आगे
    अब तो इन्द्रधनुष भी फीके

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर ........
    कम से कम करीब तो आए ....
    वरना दूर जाते क्या देर लगती है !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये इक्कीसवीं सदी का इन्द्रधनुष है...डिम्पल के आगे फीका पड़ जाये...नामुमकिन है मेरे दोस्त...

    उत्तर देंहटाएं
  4. TERI MUSKURAHAT MAIN JAB DIMPAL DEKHTA HOON TO KASAM SE SARI DUNIYA BHOOL JATA HOON

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी लेखनी के आगे डिम्पल भी फीका है..

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में