followers

रविवार, 5 जून 2011

क्षणिकाएँ

नाव डूबी, यमुना में
दिल मेरा डूबा
तेरे अंगना में //

मोर ,मोरनी को ले भगा
देखकर मौका तगड़ा
दोनों बालिग़ थे
अब किस बात का झगडा //

इस देश को लुटा
देश के रखवालों ने
मुझको लुटा, मेरे सालों ने //

10 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत रोचक क्षणिकायें....

    उत्तर देंहटाएं
  2. पहली बार आपके ब्लॉग पर आना हुआ |
    आपकी सारी रचनाएं पढ़ी बहुत अच्छा लगा !
    अफ़सोस है की पहले क्यों नहीं आया आपके पोस्ट पर !
    कृपया मेरे ब्लॉग पर आयें http://madanaryancom.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  3. सालों की बुराई...पब्लिकली...सही नहीं...

    उत्तर देंहटाएं
  4. वह पाण्डेय जी आपने तो कमाल ही कर दिया !मेरे ब्लॉग पर् भी आये आने के लिए यहाँ क्लिक करे - "samrat bundelkhand"

    उत्तर देंहटाएं
  5. कई दिनों व्यस्त होने के कारण ब्लॉग पर नहीं आ सका

    उत्तर देंहटाएं
  6. अरे --तीनो क्षणिकायें शानदार और जानदार । नाव का डूवना और मोरनी का भगाना । तीसरी क्षणिका- सर हमारे यहां मध्यप्रदेश में कहाबत है दीवाल को खाये आला और घर को खाये साला। आला बोले तो कच्ची दीवारों में छोटी अलमारी जैसा ही कुछ

    उत्तर देंहटाएं
  7. Kshan bhar ko stabdh raha main,
    padh kar ye kshanikayen...'
    kash aap hamein nit din...
    aisi hi kavita se nahlaayen..
    bheeng gaya...achha laga

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में