followers

गुरुवार, 23 जून 2011

कलम अब तलवार नहीं है


हर जगह आग है, शोला है, कही प्यार नहीं है
सकून दे सके आपको,ऐसी कोई वयार नहीं है //

कितना संभल कर चलेंगे आप,अब गुल में
हर पेड़ अब खार है,कोई कचनार नहीं है //


हंसी मिलती है,अब सिर्फ तिजारत की बातों में
रिश्तों का महल बनाने, अब कोई तैयार नहीं है //

अश्क पोछना होगा अब आपको,अपने ही रुमाल से
पोछ दे आपका अश्क,अब ऐसा कोई फनकार नहीं है //

माँ ! लिखना भूल गई है अब मेरी कलम
शायद ,बेटे को अब माँ की दरकार नहीं है //

जी भर लूटो ,खाओ , इस हिन्दुस्तान मेरे दोस्त !!
मेरी कलम,अब कलम है ,कोई तलवार नहीं है //

25 टिप्‍पणियां:

  1. सार्थक कविता.अभी तक की सभी रचनाओ में सबसे ज्यादा आग लिए हुए.आपका असंतोष मेरे मन को भी सोचने को विवश कर रहा है.समाज पर व्यंग्य करती हुयी समाज सुधारक कविता.सुबह की सार्थक सुबह के लिए धन्यवाद बबन भैया.

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुक्रिया अंचित ...पढ़ते रहो लिखते रहो

    उत्तर देंहटाएं
  3. अश्क पोछना होगा अब आपको,अपने ही रुमाल से
    पोछ दे आपका अश्क,अब ऐसा कोई फनकार नहीं है //

    जी भर लूटो ,खाओ , इस हिन्दुस्तान मेरे दोस्त !!
    मेरी कलम,अब कलम है ,कोई तलवार नहीं है //

    सटीक बात ..अच्छी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  4. माँ ! लिखना भूल गई है अब मेरी कलम
    शायद ,बेटे को अब माँ की दरकार नहीं है //

    बहुत गहन और विचारणीय बातें लिखीं हैं अपने अपनी कलम से ...
    अच्छे विचार और अच्छी रचना ..बधाई..!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. खूब चली है आपकी कलम, बनी रहे यही धार और ये रफ्तार.

    उत्तर देंहटाएं
  6. जी भर लूटो ,खाओ , इस हिन्दुस्तान मेरे दोस्त !!
    मेरी कलम,अब कलम है ,कोई तलवार नहीं है //

    माँ ! लिखना भूल गई है अब मेरी कलम
    शायद ,बेटे को अब माँ की दरकार नहीं है //

    समाज पर व्यंग्य करती हुयी बहुत अच्छी रचना .......

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (25.06.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी कलम की धार बड़ी पैनी है...तलवार नहीं बम है हुजूर...

    उत्तर देंहटाएं
  9. कलम तलवार बन कर करे भी क्या , कुछ असर होता दिखता नहीं तो !
    ग़ज़ल मौजूदा हालातों में में आम जन के भीतर दबे गुस्से को बयान कर रही है !

    उत्तर देंहटाएं
  10. कलम का बखूबी इस्तेमाल किया है आपने

    उत्तर देंहटाएं
  11. बेहतरीन ग़ज़ल ,कक़्ता ख़ुसूसी रूप में पसंद आया, मुबारकबाद।

    उत्तर देंहटाएं
  12. माँ ! लिखना भूल गई है अब मेरी कलम
    शायद ,बेटे को अब माँ की दरकार नहीं है //

    बहुत बढ़िया...

    उत्तर देंहटाएं
  13. माँ ! लिखना भूल गई है अब मेरी कलम
    शायद ,बेटे को अब माँ की दरकार नहीं है //

    समसामयिक विमर्श करती कविता के लिए हार्दिक बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  14. अच्छी व्यंगात्मक कविता .....

    उत्तर देंहटाएं
  15. माँ ! लिखना भूल गई है अब मेरी कलम
    शायद ,बेटे को अब माँ की दरकार नहीं है //

    बहुत सुन्दर और सटीक...

    उत्तर देंहटाएं
  16. दूसरे शेर में 'अब गुल' के वजाय गुलशन भी हो सकता था। खुद के आंसू खुद ही पौछलो कोई यहां पौछने वाला नहीं है बहुत ही सारगर्भित । क्या जबरदस्त बात कहदी सर मां लिखना कहना भूल गया आदमी इससे दुखद और क्या होगा ।आखिरी शेर में तो व्यंग्य में सब कुछ कह दिया ।

    उत्तर देंहटाएं
  17. Bahut hi behtareen bhrata shri. aaj ke samaj ki sahi tasvir.

    उत्तर देंहटाएं
  18. Babanji.....very nice creation.....but we all r praying such times r going to end soon....n we will see a new INDIA , a Corruption free INDIA.....Hail ANNA ji.....Support him.......VANDE MATARAM..

    उत्तर देंहटाएं
  19. वाह .......आप माने या न माने .....लेखनी आपकी तलवार ही है ........

    उत्तर देंहटाएं
  20. सटीक व वेहतरीन उदगार, बब्बन जी वाह !

    उत्तर देंहटाएं


  21. माँ ! लिखना भूल गई है अब मेरी कलम
    शायद ,बेटे को अब माँ की दरकार नहीं है //

    जी भर लूटो ,खाओ , इस हिन्दुस्तान मेरे दोस्त !!
    मेरी कलम,अब कलम है ,कोई तलवार नहीं है /

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में