followers

शुक्रवार, 13 अप्रैल 2012

सकून

तुम्हारी लवों की मुस्कुराहटों ने मुझे शायर बना दिया
ईमानदारी की ज़ख्मों ने मुझे कायर बना दिया //

इरादे नेक हो , इसलिए ताउम्र मशक्कत करता रहा
आपकी जुल्फों के साए ने , मुझे कातिल बाना दिया //

बात रुपयों की चलती है , तो सकून मिलता है
वरना आपकी हंसी में किसका पेट भरता है //

12 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर विचार हैं आपके .......:)

    उत्तर देंहटाएं
  2. बात रुपयों की चलती है , तो सकून मिलता है
    वरना आपकी हंसी में किसका पेट भरता है //
    truth with pain.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बात रुपयों की चलती है , तो सकून मिलता है
    वरना आपकी हंसी में किसका पेट भरता है //

    बहुत सुंदर पोस्ट....वाह!!!!बबन जी आपने तो लिखने की विधा ही बदल दी

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: आँसुओं की कीमत,....

    उत्तर देंहटाएं
  4. .



    "
    बात रुपयों की चलती है , तो सकून मिलता है
    वरना आपकी हंसी में किसका पेट भरता है"
    बबन पांडेय जी,
    सच है , पैसे से ही शांति मिलती है , पेट भरता है …

    बहुत ख़ूब !

    उत्तर देंहटाएं
  5. बात रुपयों की चलती है , तो सकून मिलता है
    वरना आपकी हंसी में किसका पेट भरता है....ओह बड़ी कटु बात ... :) सादर

    उत्तर देंहटाएं
  6. ये हुई इंजिनियर की शायरी...खरी-खरी बात...

    उत्तर देंहटाएं
  7. अब क्या कहूँ ....ये तो बड़ी कातिल चीज लिख डाली आपने ..........गजब है गजब

    उत्तर देंहटाएं
  8. शुक्रिया नित्यानंद जी
    नूतन जी
    राजेंद्र स्वर्णकार जी

    उत्तर देंहटाएं
  9. शुक्रिया ... लाज़वाब लेखन
    बात रुपयों की चलती है , तो सकून मिलता है
    वरना आपकी हंसी में किसका पेट भरता है //

    उत्तर देंहटाएं

  10. यूँ तो कहने को हम बड़े खुशमिजाज़ हैं लेकिन
    रुला देती है ,,अपनों के प्यार की हसरत कभी कभी..


    बात रुपयों की चलती है , तो सकून मिलता है
    वरना आपकी हंसी में किसका पेट भरता है aati sundar

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में