followers

रविवार, 5 अगस्त 2012

मुझे रश्क है ..

मुझे रश्क है ..
आपकी आँखों से
जिसने चुम्बकित कर
मुझे आलिगन  को मजबूर किया //

मुझे रश्क है
हरी दूबों पर टिकी
सुबह की उन ओसों से
जो आपके परों को धो देती है //

और सुनिए ...
मुझे रश्क है
इन हवाओं से भी
जो आपकी जुल्फों से आलंगित हैं

15 टिप्‍पणियां:

  1. मुझे रश्क है
    हरी दूबों पर टिकी
    सुबह की उन ओसों से
    जो आपके परों को धो देती है //

    ये भी एक चाहत का निराला अंदाज़ है

    जवाब देंहटाएं
  2. sunder rachana.aise hi likhte rahen .

    plz vsit my blg. purvaai.blog spot .com

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत ख़ूब!
    आपकी यह ख़ूबसूरत प्रविष्टि कल दिनांक 06-08-2012 को सोमवारीय चर्चामंच-963 पर लिंक की जा रही है। सादर सूचनार्थ

    जवाब देंहटाएं
  4. आपकी इस उत्कृष्ट प्रस्तुति की चर्चा कल मंगलवार ७/८/१२ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी आपका स्वागत है |

    जवाब देंहटाएं
  5. बेहतरीन उत्कृष्ट प्रस्तुति ...बधाईयाँ जी

    जवाब देंहटाएं
  6. मुझे रश्क है
    हरी दूबों पर टिकी
    सुबह की उन ओसों से
    जो आपके परों को धो देती है

    बहुत ही कोमल भावनाओं में रची-बसी सुन्दर रचना ....

    जवाब देंहटाएं
  7. और मुझे भी रश्क है ....
    आपकी रचनाओं पर
    जो खींच लाती हैं हमें
    कहीं से भी, अपने करीब में
    और दे जाती हैं मुस्कान
    अधरों को संजोने के लिए

    जवाब देंहटाएं
  8. शुक्रिया अजय गोस्वामी जी

    जवाब देंहटाएं
  9. very good thoughts.....
    मेरे ब्लॉग

    जीवन विचार
    पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    जवाब देंहटाएं
  10. जो आपके पैरों को धौ देतीं हैं ,
    ....................

    जो आपकी जुल्फों से आलिंगित हैं
    बढ़िया प्रस्तुति है .

    जवाब देंहटाएं
  11. खूब सूरत पंक्तियों के लिए बधाई

    जवाब देंहटाएं

मेरे बारे में