followers

मंगलवार, 25 दिसंबर 2012

प्रेम मुहाबरे


केश तुम्हारे काले-काले , नैन तुम्हारे बाबरे
तुम्हें देख मैं गढ़ लेता हूँ , रोज प्रेम मुहाबरे//


क्या चकोर की पिहू-पिहू , क्या कोयलिया की कुहू-कुहू
लव हिले तो फुट पड़ते हैं , हंसी के सौ-सौ फब्बारे //

8 टिप्‍पणियां:

  1. चार लाइन और 78 वर्णों में प्रेम को पूर्णता देना कोई आपसे सीखे

    उत्तर देंहटाएं
  2. नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ... आशा है नया वर्ष न्याय वर्ष नव युग के रूप में जाना जायेगा।

    ब्लॉग: गुलाबी कोंपलें - जाते रहना...

    उत्तर देंहटाएं
  3. नव वर्ष पर हार्दिक शुभ कामनाएं |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  4. नव वर्ष मंगल मय तुम्हें, आगे बढाये पन्थ में |
    न लू सताए ग्रीष्म में, न शेत भी हेमंत में |\

    उत्तर देंहटाएं
  5. ‘चिन्तन-मनन’ करें हम थोड़ा, देखें कुछ टटोल कर-
    ‘क्या खोया,क्या पाया हमने’, बीत गये इस वर्ष में|

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में