followers

सोमवार, 11 फ़रवरी 2013

उफ़ ! ये शहर है ....


हाई-अलर्ट है पूरे शहर में
धारा १४४ लगी है
बच्चे इसका मतलब पूछते है..
क्या बताऊँ उन्हें
कसाब के  बाद अफजल को फांसी 
पत्नी कहती है 
आज बाहर मत जाइये //

रातों को नींद नहीं 
जबसे सुना है..
पाकिस्तान ने बना लिया है
२००० किलो मीटर तक मार मार  वाले मिसाइल 
उपर से रोज-रोज
लश्कर-ए=तैयवा और अलकायदा की धमकी 
बाबरी मस्जिद की बरखी 
26/10 , 9/11 है सो अलग...!
उफ़ ! ये शहर है  या
खौफ का समदर//

15 टिप्‍पणियां:

  1. बाबरी मस्जिद की बरखी
    26/10 , 9/11 है सो अलग...!
    उफ़ ! ये शहर है या
    खौफ का समदर//

    सही कहा आपने

    उत्तर देंहटाएं
  2. आज शहर का हर व्यक्ति एक भय पाले जी रहा है ,आपने बहुत सधे शब्दों में ह्रदय के इस उथल -पुथल को व्यक्त किया है !
    बधाई बबन जी !

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि कि चर्चा कल मंगलवार 12/213 को चर्चा मंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका वहां स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. चर्चा मंच का तहेदिल से आभारी हूँ

      हटाएं
  4. समयोचित कविता.... चारों ओर छाइ हुइ डर की आभा को आपने बखुबी व्यक्त किया है
    ........

    उत्तर देंहटाएं
  5. सच को दर्शाती सुन्दर कविता .....

    उत्तर देंहटाएं
  6. एक वाजिब चिंता.एक सुंदर कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बाबरी मस्जिद की बरखी
    26/10 , 9/11 है सो अलग...!
    उफ़ ! ये शहर है या
    खौफ का समदर//

    आजकल दहसत के हालात है देश में,,,,

    RECENT POST... नवगीत,

    उत्तर देंहटाएं
  8. 'खौफ' तो ये दिखाने के लिए है , बब्बन जी, ये तो 'चोर वार' करने में माहिर हैं. सामने से 'वार' करने की हिम्मत गीदड़ों में कहाँ से .....
    उचित अभिव्यक्ति .. सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  9. Aapki kavitaon ke shabd aur abhivyakti ki shaili kabile tareef hoti hai ....

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में