followers

शनिवार, 21 सितंबर 2013

बस य़ू ही ...

रुपयों की तंगी से कितने तंग सो जाते है लोग
खुली सड़क बिना बिछावन य़ू ही सो जाते है लोग //

पग-पग पर हालातों से समझौता करते हैं लोग
दोस्ती दिखाने को बस य़ू ही मुस्कुराते हैं लोग //

बातों को काटते-काटते , सर काट देते हैं लोग
जिंदगी बस यु ही,लड़ते-झगड़ते बिताते है लोग //


पहले  मुसीबतों में खुलकर मदद को आते थे लोग
अब  माँ-बहनों को देख,य़ू ही लंगोटा खोल देते है लोग //


14 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत पसन्द आया
    हमें भी पढवाने के लिये हार्दिक धन्यवाद !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. आभार संजय जी . हौसला बढाते रहे

    उत्तर देंहटाएं
  3. अंतिम पंक्तियां वर्तमान को बिना लाग लपेट के उजागर करती हुयी ,,,,पूर्णतः सुदर ..

    उत्तर देंहटाएं
  4. पग-पग पर हालातों से समझौता करते हैं लोग
    दोस्ती दिखाने को बस य़ू ही मुस्कुराते हैं लोग //

    उत्तर देंहटाएं
  5. शुक्रिया नित्यानंद भाई

    उत्तर देंहटाएं
  6. पग-पग पर हालातों से समझौता करते हैं लोग
    दोस्ती दिखाने को बस य़ू ही मुस्कुराते हैं लोग //

    ...बिल्कुल सच...बहुत उम्दा प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बस य़ू ही ...
    रुपयों की तंगी से कितने तंग सो जाते है लोग
    खुली सड़क बिना बिछावन य़ू ही सो जाते है लोग //

    पग-पग पर हालातों से समझौता करते हैं लोग
    दोस्ती दिखाने को बस य़ू ही मुस्कुराते हैं लोग //

    बातों को काटते-काटते , सर काट देते हैं लोग
    जिंदगी बस यु ही,लड़ते-झगड़ते बिताते है लोग //


    पहले  मुसीबतों में खुलकर मदद को आते थे लोग
    अब  माँ-बहनों को देख,य़ू ही लंगोटा खोल देते है लोग //


    किया खूब

    उत्तर देंहटाएं
  8. बातों को काटते-काटते , सर काट देते हैं लोग
    जिंदगी बस यु ही,लड़ते-झगड़ते बिताते है लोग //

    बहुत खूब,सुंदर रचना !

    RECENT POST : हल निकलेगा

    उत्तर देंहटाएं
  9. जीवन जीने के नए ढंग खोज लेते हैं यूँही लोग ...

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में