followers

शुक्रवार, 23 मई 2014

कब आएगी खुशबू इन मकानों से

कोई खुशबु नहीं होती...
सीमेंट में
बालू में
बजरी में
और लोहे की सरियों में
मगर...
जब सब मिलते है तो
बनता है मकान //

मकान.... 
भींगने  से बचने के लिए नहीं है...
मकान....
तलाक के कागज पर दस्खत करने की जगह नहीं है 
मकान ....
दुश्मन को परास्त करने का प्लान बनाने की जगह भी नहीं ..

मकान  तो एक गर्भ है..
जहां ..
प्रेम और प्यार का बीज पनपता है ..//

और जब... 
यह पनपता है..
तो आने   लगती  है खुशबु  मकान से     

5 टिप्‍पणियां:

  1. और तभी यह मकान बन जाता है एक सुन्दर सपनो का घर … बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हौसला आफज़ाई के लिए आपका आभार संध्या जी

      हटाएं

मेरे बारे में