followers

मंगलवार, 27 मई 2014

तुम हो अंग्रेजी अखबार //

तुम हो  अंग्रेजी  अखबार
करती हो अँखियों से बार //

जब कोई आता मेहमान
नहीं पूछती चाय-पान
तेरे ओठों की बड़-बड़ से
दिल हो जाता तार-तार
तुम हो अंग्रेजी  अखबार //

आता है जब  भाई तेरा
हर थकावट होती छू-मंतर
सब्जी चार पकाकर तुम
रोटी पर घी लगाती बार-बार
तुम हो अंग्रेजी अखबार //

3 टिप्‍पणियां:

  1. भाई फ़ोटोज़ चेपने में आपकी पसंद झलकती है...और जब ऐसी झकास पसंद हो तो...वैसा होना ही है जैसी कविता लिखी है...सटीक...

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में