followers

गुरुवार, 8 मई 2014

मौसम आज रूमानी है...



नभ से टपकता पानी है
मौसम आज रूमानी है...

तरु के पत्तों ने गाया कलरव
हरीतिमा का रंग लेकर
नभचर प्रचोदित हो गए
श्वेत बादलों का पंख लेकर
देह चुप है, पर दिल करता शैतानी है ..
मौसम आज रूमानी है... 

4 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (09.05.2014) को "गिरती गरिमा की राजनीति
    " (चर्चा अंक-1607)"
    पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, वहाँ पर आपका स्वागत है, धन्यबाद।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर शब्द रचना
    नव बर्ष की शुभकामनाएं
    http://savanxxx.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में