followers

शनिवार, 5 मार्च 2011

कुछ नया सोचो

सोचो! सोचो !
कुछ नया सोचो, मेरे दोस्त !
हर कोई नया सोच रहा है ॥

अब समय
किसी को लतिया कर
गिराने का नहीं
नई सोच से आगे बढने का है ॥

क्यों मिटाना
किसी रेखा को छोटा करने के लिए
जब तुम समर्थ हो
वर्तमान रेखा के बगल में
एक लम्बी रेखा खीचने में ॥

अगर ओढ़नी है
सफलता की चादर
अगर पहुंचना है
फर्श से अर्श तक
तो बड़े करीने से बुनने होंगे
मेहनत के धागे ॥

16 टिप्‍पणियां:

  1. अगर ओढ़नी है
    सफलता की चादर
    अगर पहुंचना है
    फर्श से अर्श तक
    तो बड़े करीने से बुनने होंगे
    मेहनत के धागे ॥

    बबन जी, बहुत अर्थपूर्ण और सुंदर कविता लिखी आपने. आनंद आ गया. यूँ ही लिखते रहिये.

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (7-3-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  3. 'क्यों मिटाना
    किसी रेखा को छोटा करने के लिए
    जब तुम समर्थ हो
    वर्तमान रेखा के बगल में
    एक लम्बी रेखा खीचने में'
    great lines.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर | आपकी हर पोस्ट पढ़ कर बहुत अच्छा लगा |
    आप मेरे ब्लॉग पे भी आइये आपको अपने पसंद की कुछ रचनाये मिलेंगी
    दिनेश पारीक
    http://vangaydinesh.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  5. बुनने होंगे मेहनत के धागे ...बहुत अच्छी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  6. अगर ओढ़नी है
    सफलता की चादर
    अगर पहुंचना है
    फर्श से अर्श तक
    तो बड़े करीने से बुनने होंगे
    मेहनत के धागे ॥
    सुंदर रचना ...... सार्थक विचारों की गहन अभिव्यक्ति.....

    उत्तर देंहटाएं
  7. एक उत्साह वर्धक रचना....बहुत सुन्दर....

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर प्रेरक रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  9. Wah Babanji, badi umda baat hai yah, kisi ki achievment ko mitane par nahin , apna lakshya aur bada kar , use achieve kar bada challenge saamne rakho...............Very good.

    उत्तर देंहटाएं
  10. सभी मित्रो को नमस्कार उत्साहवर्धन करते रहें

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर रचना...
    सार्थक विचारों की गहन अभिव्यक्ति.........

    उत्तर देंहटाएं
  12. क्यों मिटाना
    किसी रेखा को छोटा करने के लिए
    जब तुम समर्थ हो
    वर्तमान रेखा के बगल में
    एक लम्बी रेखा खीचने में ॥

    सुन्दर प्रेरणादायक सार्थक अभिव्यक्ति ..होली की शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में