followers

शुक्रवार, 18 नवंबर 2011

आप बताएं मेरी जाति


मेरी सुबह की शुरुआत
टॉयलेट सफाई से शुरू होती है
मैं डोम बन जाता हूँ
दाढ़ी बनाते समय
मैं नाई बन जाता हूँ //

नहाने से पहले
अपने कपडे धोता हूँ
मैं धोबी बन जाता हूँ //

अपने गाँव में खेती करता हूँ
मैं भूमिहार बन जाता हूँ
अन्याय के विरुद्ध लड़ता हूँ
मैं क्षत्रिय बन जाता हूँ //
जब अपनी थाली धोता हूँ
शुद्र बन जाता हूँ //

मेरे पिता जी ने मुझसे कहा था
तुम ब्रह्माण हो
अब आप ही बताएं
मेरी जाति क्या है ?

14 टिप्‍पणियां:

  1. Baban Ji sahi kaha ek admi ek din me kitne ko prastut karta hai..............

    उत्तर देंहटाएं
  2. बबन जी,
    लोग तो इससे भी ज्यादा काम करते...
    इस जीवन में जीने के लिए परिवार चलाने के पता
    नही और क्या क्या करते है ...
    मेरे पोस्ट पर भी आइये....

    उत्तर देंहटाएं
  3. तुम ब्रह्माण हो
    yeh satya hai...

    jai baba banaras....

    उत्तर देंहटाएं
  4. ब्रम्ह नहीं कोई जाति बनाई, केवल बनाई नर और नारी
    कर्म किये जैसा मेरे पूर्वज, वही जाति बन गई हमारी ...
    मै एक पात्र हूँ जो प्रतिदिन इन भूमिकाओं को जीता हूँ हकीक़त तो यह है कि मै एक मानव हूँ

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  6. जब कभी जाति की बात हो... इसका एक मात्र अभिप्राय इंसानियत ही हो!

    उत्तर देंहटाएं
  7. अपने लिए करें तो और, सबके लिए करें तो कुछ और.

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  9. Very interesting, excellent post. Thanks for posting. I look forward to seeing more from you. Do you run any other sites?

    From everything is canvas

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में