followers

गुरुवार, 2 फ़रवरी 2012

बसंत कब घबराता है /


हाथों में फूलों को लेकर
जब तुम मुस्काती हो
तब सावन मुस्काता है //

नयनों में काजल भरकर
जब पलकें गिराती हो
तब भादों शरमता है //

गोरी बाहें जब हवा में झूलें
और दुपट्टा मुझ को छू ले
तब बसंत घबराता है //

15 टिप्‍पणियां:

  1. जब दुपट्टा मुझ को छू ले
    तब बसंत घबराता है //
    WAAH SIR JEE/

    उत्तर देंहटाएं
  2. सावन का मुस्कराना,भादों का शर्माना,बसंत का घबराना,....बहुत खूब,..बबन जी
    बेहतरीन रचना,लाजबाब प्रस्तुतीकरण..
    ...40,वीं वैवाहिक वर्षगाँठ-पर...

    उत्तर देंहटाएं
  3. Bahut sunder - basant ritu aur kabiyon ki kabita - dono ka gadha sambadh raha hai / Aap ki kabita bahoot sunder hai.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  5. गोरी बाहें जब हवा में झूलें
    और दुपट्टा मुझ को छू ले
    तब बसंत घबराता है //ऐ

    लाज़वाब अहसास...बहुत भावमयी अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  6. दिल के सुंदर एहसास
    हमेशा की तरह आपकी रचना जानदार और शानदार है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. चर्चा मंच से इस ओर आये..
    रचना अच्छी है ..
    kalamdaan.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  8. नयनों में काजल भरकर
    जब पलकें गिराती हो
    तब भादों शरमता है //... बेहतरीन भईया ... कल्पना के पंख की कोई ओर - छोर नहीं है .. !!

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत हि सुन्दर वसंत के भावनाओं को दर्शाती रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  10. सावन का मुस्काना
    भादों का शरमाना
    वसंत के आते ही
    मन का ये घबराना।
    बहुत ही सराहनीय.......
    कृपया इसे भी पढ़े-
    नेता कुत्ता और वेश्या

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में