followers

बुधवार, 22 फ़रवरी 2012

पर्दाफाश


कुहू-कुहू सुन झूमे मन
जब बसंत है आता
लोभ का चादर जब मैं ओढू
मेरा विवेक मर जाता //

आंच आता जब मेरे स्वार्थ पर
मैं तिल का ताड़ बनाता
बात -बात पर मित्रों का मैं
निन्दा -रस पान कराता //

रुपयों -पैसों की खातिर मैं
छल की तलवार चलाता
हार प्रतीत होने पर
तुरंत ही शीश नवाता //

माँ -पिता भी गुरु तुल्य है
इस बात को मैंने झुठलाया
आत्मा-शांति करने उनका
'गया ' में पिंड -दान करवाता //

जब भी आगंतुक आता
मीठी बातों की छौक लगाता
इज्जत ढकने को खातिर
मैं झूठ का लेप लगाता //

जब देखू कोई नार सुंदरी
मैं मंद-मंद मुस्काता
शादी का प्रलोभन दे मैं
नित नए-नए रास रचाता //

मेरी बातों में न दम है
न किये गए पापों का गम है
अपने कुकृत्यों को धोने
मैं गंगा रोज नहाता //

मुह में राम ,हाथ में छुरी
यह निति अब मैं अपनाता
नेता और पुलिस देखकर
अब नहीं कभी घबराता //

21 टिप्‍पणियां:

  1. मेरी बातों में न दम है
    न किये गए पापों का गम है
    अपने कुकृत्यों को धोने
    मैं गंगा रोज नहाता //

    ....वर्तमान हालात और मनोवृति का बहुत सटीक चित्रण...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया,बबन जी,लोगों के मनोवृति अच्छी प्रस्तुति,बेहतरीन रचना./

    MY NEW POST...काव्यान्जलि...आज के नेता...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  3. आपकी पोस्ट चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    http://charchamanch.blogspot.com
    चर्चा मंच-798:चर्चाकार-दिलबाग विर्क>

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  4. मुह में राम ,हाथ में छुरी
    यह निति अब मैं अपनाता... sach kaha aapne .. aise hi hain aaj ke halaat.. bahut sundar...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  5. जब भी आगंतुक आता
    मीठी बातों की छौक लगाता
    इज्जत ढकने को खातिर
    मैं झूठ का लेप लगाता //
    ... ati uttam...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  6. जब देखू कोई नार सुंदरी
    मैं मंद-मंद मुस्काता
    शादी का प्रलोभन दे मैं
    नित नए-नए रास रचाता //
    ... SUCH ME SIR JEE... PURUSH MANSIKTA TO YAHI HAI AAJKAL

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  7. bahut sundar ! khud ko pahachanana bhi badi samjhdari ka kam hai ...aur aapaki paktian sabko khud se jodati hai ....
    Dr. ratnesh Tripathi

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  8. मुह में राम ,हाथ में छुरी
    यह निति अब मैं अपनाता
    नेता और पुलिस देखकर
    अब नहीं कभी घबराता // Good one ! keep writing . u'll go a long way... ...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  9. उत्तर
    1. माँ -पिता भी गुरु तुल्य है
      इस बात को मैंने झुठलाया
      आत्मा-शांति करने उनका
      'गया ' में पिंड -दान करवाता

      बहुत ही सटीक प्रहार है समाज पर व् आज के इंसान पर |

      हटाएं
  10. मेरी बातों में न दम है
    न किये गए पापों का गम है
    अपने कुकृत्यों को धोने
    मैं गंगा रोज नहाता //
    bahut khub aap ka samast rachnaye lajawab hota hai sir aur yah rachana to bahut hi utkrisht shreni ka hai sir,sadhubaad.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  11. जय जय श्री राम !!!!अति सुन्दर ..वर्तमान स्थिति का बहुत सुन्दर विवेचन ....

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  12. Baban ji... aap ki rachanaa kahin na kahin dil ko chhoo kar aage nikal jati hai... roj jo dekhane mein milta hai usi ko kalam band karne mein aapko jo maharathh haasil hai wo asaamaanya hai... Bahut Bahut Saadhuwaad

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  13. पर्दा फाश तक पहुँचते पहुँचते ज़िन्दगी का गणित आप हमें भी सिखा गए .औसत एक भ्रामक अवधारणा है जिसका सम्बन्ध किसी भी चीज़ से नहीं होता है .

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  14. अब क्या कहूँ .........बस, समझ लीजिये, भाई !
    बहुत ही उम्दा............!!

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में