followers

रविवार, 19 फ़रवरी 2012

बसंत के बहाने


खिलखिलाने ,गुदगुदाने का मौसम बसंत है
जीवन में खुशियाँ लाने का, मौका अनंत है //


न्याय की कुर्सी पर बैठकर , ईमान मत बदलो
झूठ,फरेब ,धोखा करने का मौका अनंत है //

राम अमर हो गए, जिन्होनें चख लिया जूठा बेर
दोस्तों ,गरीबों को गले लगाने का मौका अनंत है //

खूब फूलते-फलते है दोस्तों , पापी इस देश में
क्योकि पापों को धोने को ,यहाँ नदियाँ अनंत हैं //

16 टिप्‍पणियां:

  1. पापों को धोने के लिए नदियां बहुत है ...बहुत खूब ...

    जवाब देंहटाएं
  2. सर जी ..इस कविता में तो रंग के दर्शन हो गए वाह

    जवाब देंहटाएं
  3. राम अमर हो गए, जिन्होनें चख लिया जूठा बेर
    दोस्तों ,गरीबों को गले लगाने का मौका अनंत है //
    KYA BAAT KAHI SIR AAPNE... WAAH

    जवाब देंहटाएं
  4. ठीक ही लिखा है आपने !!हमारे देश में पाप करके पुण्य करने का रिवाज़ भी पुराना है....और पाप धोने के तरीके भी अनंत है...

    जवाब देंहटाएं
  5. राम अमर हो गए, जिन्होनें चख लिया जूठा बेर
    दोस्तों ,गरीबों को गले लगाने का मौका अनंत है //
    Bhut Achchhii kavita hai...
    Likhate rahie...

    जवाब देंहटाएं
  6. वाह!!!!!बहुत अच्छी प्रस्तुति, सुंदर रचना

    MY NEW POST ...सम्बोधन...

    जवाब देंहटाएं
  7. दोस्तों गरीबों को गले लगाने का मौका अनंत है........बहुत खूब

    जवाब देंहटाएं
  8. बसंत के बहाने आपने चिंतन का विषय दिया है।

    जवाब देंहटाएं
  9. ॐ नमः शिवाय !! महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाये.

    जवाब देंहटाएं
  10. ,गरीबों को गले लगाने का मौका अनंत है // बहुत खूब भाई जी .......हर हर महादेव ....!!

    जवाब देंहटाएं
  11. वाह!!!!!बहुत अच्छी प्रस्तुति,

    जवाब देंहटाएं
  12. क्योकि पापों को धोने को ,यहाँ नदियाँ अनंत हैं //bahut khoob Babbanji.......जीवन में खुशियाँ लाने का, मौका अनंत है ....very true.....

    जवाब देंहटाएं
  13. अनुपम भाव संयोजन के साथ बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    जवाब देंहटाएं
  14. बेतरीन अभिव्यक्ति. dhanyavaad.

    जवाब देंहटाएं
  15. बसंत के बहाने बहुत अच्छी बातें कह दी आपने... सुन्दर रचना... आभार

    जवाब देंहटाएं
  16. धारदार पंक्तियाँ ....बहुत अरसे बाद सुकून मिला

    जवाब देंहटाएं

मेरे बारे में