followers

सोमवार, 8 जुलाई 2013

मुनादी ..

नाबालिक बच्ची है
उम्र कोई १५ साल
जींस और टॉप पहने
रंग गोरी ,चेहरा गोल है
बाल कंधे तक
बांगला खूब बोलती है
हिंदी/इंग्लिश समझती है
लापता है ...

अरे ! काम की बात बताना
भूल ही गया
नाचती और गाती है
ओर्केस्ट्रा में काम करती है ...
कैसे भेज देती है एक माँ
उसे बिहार .... मात्र एक कागज पर
ले जानेवाले से दस्खत करा कर //

उसे क्या पता था
ओर्केस्ट्रा वाला धकेल देगा
किसी गैर मर्द के साथ ,सोने के लिए
खैर ... किसी तरह भाग निकली है
तब से लापता है ..

आपके पास कोई
नाबालिक बच्ची तो नहीं लाई गयी...

3 टिप्‍पणियां:

  1. खुबसूरत और सार्थक सन्देश देती रचना गजब

    उत्तर देंहटाएं
  2. मार्मिक ... संवेदनहीन हो गए हैं सब जैसे ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर कविताएं..आपके सभी ब्लॉग देखे..बेहतरीन प्रस्तुतियां हैं..

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में