followers

शुक्रवार, 5 जुलाई 2013

गलतियां

खूब मन लगता था
बचपन में
गलतियां खोजने में
एक ही तरह दिख रहे
दो चित्रों के बीच

आदत वहीँ से बन गयी
अब तो
गलतियां -ही गलतियां
अवगुण ही अवगुण
झट खोज बैठता हूँ ..
हर इंसान में //

7 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब
    ~~
    गलतियां खोजने में
    एक ही तरह दिख रहे
    दो चित्रों के बीच
    मेरी आदत तो आज भी है

    उत्तर देंहटाएं
  2. ये भी एक टैलेंट है....
    :-)

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. सच है पर कभी कभी अपने आप को आईने में देख के गलतियां निकाला अच्छा होता है ... आत्मशुद्धि तो होती है ... अच्छे भाव लिए सार्थक रचना ...

    उत्तर देंहटाएं

  4. दूसरों अवगुण ढूँढना ,उस अवगुण को अपनाने के बराबर है !
    latest post केदारनाथ में प्रलय (भाग १)

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सही ... उत्‍कृष्‍ट लेखन के लिए आभार ।

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में