followers

शुक्रवार, 31 जनवरी 2014

एक बूढ़े बिहारी बाप की अंत:व्यथा

बेटा!!
अमेरिका से कब लौटोगे..

मुझे नही पता..
9/11 क्या होता है..
मगर सुना है..इसके बाद
अमेरिका मे रहने वाले मुसलमान..
शक के दायरे मे है...

हम लोग भी मुसलमान है बेटा..
वहा ऐसा -वैसा मत कर देना..
जिससे इस देश को फ़ज़ीहत उठानी पड़े..
सुना है, ..कुछ दिन पहले ..
न्यूयॉर्क के टाइम्सस्क्वेर पर..
बम के साथ एक पाकिस्तानी पकड़ाया है....

मैने तुम्हे गोद मे खिलाया है..
और इस्लाम की सही तालीम दी है...
पर डरता हू ...कि...
पैसे की चकाचोंध ने ...
बदल ना दिया हो तुम्हे...

और सुनो .....
तुम जो पैसा भेजते हो ना ....
वह बंद कर दो...बेटा..
शायद तुम्हे पैसे की ज़्यादा ज़रूरत हो..
जुम्मन की वेवा को 10 लाख मिले है.
नक्शली हिंसा मे शहिद हो गया.
था.... अपना जुम्मन....
मुझे गम नही बेटा...
कमसे कम ोगो को..
यह यकीन तो हो ही गया. है...
कि .....
किशनगंज के मूसलमान..
सरपरस्तो के मददगार नही है.

सरकार उसकी वेवा को..
नौकरी देने की बात कहती है...
तुम्हारा भतीजा अंसार..
बगल के आगनवाडी केंद्र मे जाता है..
वहा खाना भी मिलता है..

रोज नमाज़ अदा करते हो ना बेटा!!
गंदी बाते मन मे आती भी नही...


तुम्हारी अम्मी जब लौट कर .
आई थी तुम्हारे पास से..
कहती थी....
वहा तो पता ही नही चलता ..
अज़ान का...
किशनगंज मे तो तुम्हारी अम्मी..
अज़ान के साथ ही उठती थी....
खैर,, छोड़ो बेटा ...
अब वतन लौट जाओ ..

अब बिहार मे भी अमन शान्ति है...
यहा बी०जे०पी और जद(यू) की सरकार है..
अच्छा काम कर रही है...
सुना है...
किशनगंज मे और बिहारशरीफ़ मे.....
अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी ..
एवम नालंदा यूनिवर्सिटी खुल रहा है...
आओ ... इन दोनो जगहो .....
कही न कही नौकरी मिल ही जायगी...

अगर.....
नही भी मिलता है....
चाय की खेती करेगे..
यहा कुछ किसान चाय की खेती कर रहे है..
सिललीगुडी मे चाय की मार्केट है.

जुम्मन का दोस्त कह रहा था..
गावो मे इंटरनेट लग गया है...
सुना है....
अगर ईमेल पता हो..तो..
मिनटो मे बात होती है...
भेज देना ..बेटा !!!!


the poem depicts the pitiful condition of very old father belonging to a muslim family of kisangunj district in bihar. his one son was dead in a ambush of naxalites against police.
one of his son dwells in US.. he is afraid..because a young pakistani had been arrested in TIMES SQUARE of US. he is happy with current political sitution of BIHAR... and urges him to return to his native village and requests him to join the newly opened the branch of AMU and NALANDA UNI........

3 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत मर्मस्पर्शी...लाज़वाब प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  2. वृद्ध बाप की व्यथा और पीड़ा को प्रस्तुत करती मर्मस्पर्शी रचना...

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में