followers

बुधवार, 13 मार्च 2013

मिलन


तुम्हारी याद
मेरे दिल की शांत झील में
पहले तो एक पत्थर की तरह गिरती है
फिर उठा देती है सुनामी सी लहरें

 प्रश्न है
आखिर क्यों आती हो तुम याद
मैंने तो तुम्हारे साथ
अग्नि के शात फेरे भी नहीं लिए
कसमें भी नहीं खाई
जिंदगी भर साथ निभाने की


जिन्होनें सात फेरे लिए 
मरने-जीने की कसमें खाई 
अब वे कहते है 
दिखावा है ये सब 
क्योकि अलग-अलग होने के 
पदेन हैं लाखों आवेदन कोर्ट में 

तॊ आओ प्रिय!
सात फेरे लेने से पहले 
हम शपथ लें लें 
हम मिलेंगें /अलग होने के लिए नहीं 
जीवन भर साथ-साथ चलने के लिए//


10 टिप्‍पणियां:


  1. तॊ आओ प्रिय!
    सात फेरे लेने से पहले
    हम शपथ लें लें
    हम मिलेंगें /अलग होने के लिए नहीं
    जीवन भर साथ-साथ चलने के लिए,,,,


    बहुत सुंदर भाव लिए बेहतरीन अभिव्यक्ति....

    Recent post: होरी नही सुहाय,

    उत्तर देंहटाएं
  2. तब साथ निभाना जो पड़ता है ....

    बहुत बढ़िया

    उत्तर देंहटाएं
  3. sundar kavita, lekin ek sawal, koi alag hone ke liye bhi saat phere lte hai kya? Kuch logon ke man mein shaq hota hai, uska koi ilaaj nahi, aur haan, prem kahaniyan amar hain, log ek doosre ko yaad karte hain behad, bina shaadi, aur shayad shaadi ki hoti to kum yaad aate...........zindagi door se, premi door se, zyada achche lagte hain, kareeb jaane par lagta hai ki ruman ke baad ek aur zindagi hai

    उत्तर देंहटाएं
  4. मंगलवार 09/04/2012को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं ....

    आपके सुझावों का स्वागत है ....
    धन्यवाद .... !!

    उत्तर देंहटाएं

  5. तॊ आओ प्रिय!
    सात फेरे लेने से पहले
    हम शपथ लें लें
    हम मिलेंगें /अलग होने के लिए नहीं
    जीवन भर साथ-साथ चलने के लिए//-बहुत सुंदर भाव
    LATEST POSTसपना और तुम

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेह्तरीन अभिव्यक्ति!शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में