followers

गुरुवार, 10 अक्तूबर 2013

"स्कालर"

"स्कालर"  मैंने इसका अर्थ शब्दकोष में खोजने की चेष्टा नहीं की .. अख़बारों में छपे खबर के अनुसार स्कालर उसे कहते है जो किसी परीक्षा में पैसे लेकर दुसरे के बदले बैठ कर उसे पास करवा देते है .//
बिहार के अखबारों में आजकल इन दिनों ऐसी मामलों के समाचार छापते रहते है //

ऐसे मामलों की जानकारी करीब १०-१२ वर्ष पूर्व तब हुई जब नालंदा जिले के रणजीत डॉन ने सैकड़ों की संख्या में इंजिनीयर डोक्टर और बैंक पी ओ इस विधि से बना चुके थे //

वे पकडे तब गए तब वे इस तरकीब को भारतीय प्रबंधन संस्थान की परीक्षा में इसे अपना रहे थे.
इस विधि में पद के अनुरूप  पैसा लिया जाता है जैसे मेडिकल में एड्मिसन के लिए २० लाख ,पी ओ के लिए १० लाख इतायादी //
ये लोग कोम्पुटर से फोटो की मिक्सिंग ऐसा करते है कि अंतर पहचानना मुश्किल होता है .
पकडे जाने पर भी सजा का कोई विशेष प्रावधान नहीं है ...
जो परीक्षक बड़े गौर से हस्त लेखन मिलाते है ..वो ही ऐसी लोगो को पकड़ पाते है ..मुझे एक बार मैट्रिक परीक्षा में ड्यूटी  मिली थी ... मैं तो नहीं पकड़ पाया... मगर एक स्कुल के शिक्षक ने ही  इसे पकड़ा
ऐसे मामले दिन -ब- दिन बढ़ते जा रहे है... यह ज़रूरी है कि इस सम्बन्ध में कुछ कडा कानून बने..

2 टिप्‍पणियां:

  1. प्रभावशाली व रोचक बात
    यहाँ मध्य प्रदेश में तो मेडिकल कालेज में बहुत हो रहा है


    आग्रह है-
    पीड़ाओं का आग्रह---

    उत्तर देंहटाएं
  2. कड़े कानूनों की जरूरत तो कई तरफ़ा है पर शायद सरकार का ध्यान जब तक हालात बद्दतर न हो जाएं तब तक नहीं जाता ... इस विषय में भी ऐसा ही होने वाला है ...
    दशहरा की मंगल कामनाएं ...

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में