followers

मंगलवार, 25 अक्तूबर 2011

तिरिया चरितर


( तिरिया चरित्र का शाब्दिक अर्थ होता है - स्त्रियों द्वारा पुरुषों को मुर्ख बनाने का खेल )

नाक से लेकर मांग तक
सिंदूर लगाकर
बहुत जँच रही थी
बडकी भौजी
पुराणों में वर्णित
देवी की तरह //

जैसे ही सब आगंतुक
जो आये थे
भाग लेने
सूर्य -उपासना के पर्व में
चले जायेंगें
बाघ-बकरी का खेल
शुरू हो जाएगा
सास-बहू में //

बहू बरसाने लगेगी बातों के डंडे
अपनी सास पर /
और सास राह देखेगी
अपने बेटे के आने का //

बेटा आ गया ...
बहू का सास के प्रति सेवा देख
गदगद हो गया /
माँ के शिकायत को
बेटा को नज़रंदाज़ करना पडा //
बेटा !
चला गया कुछ दिनों बाद
और फिर से शुरू हो गया
खेल तिरिया चरितर का //

11 टिप्‍पणियां:

  1. अति सुन्दर....** दीप ऐसे जले कि तम से संग मन को भी प्रकाशित करे ***शुभ दीपावली **

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपको और आपके परिवार को दीपोत्सव की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर पोस्ट,..सपरिवार दीपपर्व की हार्दिक मंगलकामनाए,समय समय पर सहयोग समर्थन प्रतिक्रियाए के लिए आभार.....

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर प्रस्तुति
    आपको और आपके प्रियजनों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें….!

    संजय भास्कर
    आदत....मुस्कुराने की
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेहतरीन रचना... आपको दीपावली की शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर ! दीपावली के शुभ बेला पर --दीपावली की शुभ कामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत अच्छा... इसी तरह से हमारे आस पास की छोटी छोटी बातों का अवलोकन होता रहेगा.. तभी हम समझ पाएँगें की आखिर जीवन चीज़ क्या है...

    उत्तर देंहटाएं
  8. सभी जानते हैं , देखते है , सुनते- समझते भी हैं किन्तु आपने अपने शब्दों में बयां किया ...बहुत ही अच्छी तरह

    उत्तर देंहटाएं
  9. तिरिया चरित्तर पुरुष की नकारात्मक उर्जा का विस्तार है जिसके द्वारा पाखंडी नारी की निंदा की जाती है.

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में