followers

गुरुवार, 6 अक्तूबर 2011

कील


कारीगर ने
कील का सही उपयोग किया
लकड़ी के टुकड़ों को जोड़ कर
एक टेबल बना दिया //

कील ने भी
नहीं बिगड़ने दी उसका स्वरुप
दर्द सहकर भी //

दूसरी तरफ
एक नासमझ ने
कील को फेक दिया सड़कों पर
इस बार कील ने
स्वम दर्द नहीं सहा
बल्कि ...
कितनो को घायल कर गया //

6 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी रचनाओं में विविधता है,अच्छी प्रस्तुती के लिए बधाई....

    उत्तर देंहटाएं
  2. kil ke gun dasha par bhi koi soch sake, ye aapki sarwottam soch ki uchchtam kavita hai, kofi alag hai aapki kavita,sundar likha hai aapne.

    उत्तर देंहटाएं
  3. wah ek alag hi parstuti....
    kaabile taarif sir ji..
    jai hind jai bharat

    उत्तर देंहटाएं
  4. बबन जी आपकी इस रचना को आज मैंने म्हारा हरयाणा ब्लॉग पर पोस्ट किया है

    @ संजय भास्कर

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में