followers

मंगलवार, 13 मार्च 2012

जी करता है ....


जी करता है ....
तेरी यादों से खेलूं
जी करता है ....
तेरे सपनों में जी लूं //

जी करता है ...
तेरा यौवन छू लूं
जी करता है ....
तेरे नयनों को पी लूं //

जी करता है ...
तेरी साँसों में बसकर
फूलों को महका दूँ
जी करता है ...
तेरे उर में घुसकर
अंग-अंग दहका दूँ //

जी करता है ...
तुमको फिर से पा लूं
जी करता है ...
तुमसे मिलकर जी भर रो लूं //

14 टिप्‍पणियां:

  1. ग़ज़ब की कविता ... कोई बार सोचता हूँ इतना अच्छा कैसे लिखा जाता है

    उत्तर देंहटाएं
  2. .
    गुफ्पगूं बंद न हो
    बात से बात चले
    सुबह तक शामे मुलाकात चले

    जहां प्रेम के शब्द उठते हों, जहां हृदय के शब्द उठते हों, जहां अंतर तम बोलता हो, तो उसे बोलने देना।
    .

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया मन के उठते भावों की खुबशुरत प्रस्तुति,....

    RESENT POST...काव्यान्जलि ...: तब मधुशाला हम जाते है,...

    उत्तर देंहटाएं
  4. सजी मँच पे चरफरी, चटक स्वाद की चाट |
    चटकारे ले लो तनिक, रविकर जोहे बाट ||

    बुधवारीय चर्चा-मँच
    charchamanch.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. भाव शिखर पर बैठ प्रेयसी करती यह आलाप ..

    उत्तर देंहटाएं
  6. bahut khub sundar rachana....
    http://easybookshop.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह ...बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर प्रेमाभियक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  9. जी करता है ...
    तेरी साँसों में बसकर
    फूलों को महका दूँ..
    बहुत सुन्दर प्रेमाभियक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  10. जी करता है ....
    तेरी यादों से खेलूं
    जी करता है ....
    तेरे सपनों में जी लूं //
    a new dimension of love sir.. perhaps... this is the new concept//

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में