followers

मंगलवार, 5 नवंबर 2013

आटे की गुथाई और सीमेंट कंक्रीट

मुझे कंक्रीट बनाना था
कंक्रीट -- बालू ,सीमेंट और बजरी का मिक्सचर
दिक्कत थी पानी की मात्रा का आकलन
ज्यादा पानी- कंक्रीट की शक्ति  कम
कम  पानी -तो भी कंक्रीट की शक्ति कम //

तभी मुझे याद आया ...
माँ की आटा गूथने की कला
थोडा थोडा  पानी .
.धीरे-धीरे डालना और फिर गुथना ..
मैंने भी वही   किया
धीरे-धीरे पानी मिलाते गया
अंत में अच्छी गुणवत्ता वाला कंक्रीट प्राप्त हुआ..//

अगर खुली हो मन की खिड़किया
तो काम से
सीखता है आदमी //

7 टिप्‍पणियां:

  1. Theek kahaa aapne .yadi anubhav se vyakti protsaahit ho kar aur dhyaan se kaam kare to sahee nishkarsh par pahunchanaa sambhav ho jaataa hai

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच कहा ... और माँ की सीख तो हर माम्मे में काम आती है ...
    अच्छा ख्याल शब्दों में उतारा है ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Digamber Naswa jee @ आपका बहुत बहुत शुक्रिया

      हटाएं
  3. कल 07/11/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  4. यशवंत जी आपका बहुत बहुत शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में