followers

मंगलवार, 4 जनवरी 2011

हंसने के पीछे का राज


हँसी नहीं आ रही है
कई सालों से मुझे
भूल गया हूँ
कब हंसा था खिलखिलाकर पिछली बार //

हास्य -क्लब ज्वाईन किया
वहाँ तो लोग
हँसते कम है
दांत निपोरते ज्यादा है //

सम्बन्धियों के यहाँ गया
सोचा हंस लेगे सब मिलकर
मगर ...
हंसी नाम की चिड़ियाँ उड़ चुकी थी //

हंस कर स्वागत करते है
दुकानदार ....जब सामान खरीदता हूँ
एजेंट .....जब पालिसी लेता हूँ
गर्ल फ्रेंड ....जब पार्टी लेती है
पत्नी.... जब गहने खरीदना हो
मित्र .... जब उधार लेना हो //

क्या हंसी .....
अब व्यवसाय बन चुकी है //

42 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही सही विवेचना किया आपने..बहुत खुब

    उत्तर देंहटाएं
  2. sir aapne bilkul sahi vivechna ki hai real me aaj ki duniya mtlb ki duniya hai

    उत्तर देंहटाएं
  3. सही कहा है I परन्तु दुःख तो इसी बात का है की लोग व्यापार में भी धोका दे रहें हैं I असली हंसी तो अब कहीं सुनायी भी नही पड़ती, दिखाई देना तो दूर की बात है I

    उत्तर देंहटाएं
  4. हंसी



    गर हँसना निर्भर करता है किसी घटना पर

    तो हंसी वाकई बिकती है बाजारों में

    गर हँसना निर्भर करता है सम्मलेन पर

    तो हंसी वाकई मिलती है त्योहारों पर

    हंसी के बदले गर तुम्हे ना मिले हंसी

    तो समझ लो तुम भी शामिल हो खरीदारों में

    उत्तर देंहटाएं
  5. किसी न किसी लोभ में ही चल रहा है संबंधों का व्यापार...
    उन्मुक्त हंसी अब कहाँ!
    सुन्दर रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बबनजी..हंसी की चिडिया तो सही अर्थों मे उड चुकी है..हास्य अब परिहास बन कर रह गया है..इसका स्थान आज के बेतुके लाफ्टर शो ले चुके हैं जो अपनी टी.आर.पी.के चक्कर में सभी समाजिक मर्यदाएं छोड चुके हैं..इस प्रकार हंसी का व्यसायीकरण तो हुआ है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. शुक्रिया जगदीश भाई ब्लॉग पर एक सार्थक कमेन्ट के लिए //

    उत्तर देंहटाएं
  8. शुक्रिया
    अनुपमा जी
    सत्यम जी

    उत्तर देंहटाएं
  9. Wah sundar----------mujhe vi kuch yad ayaa-----
    hansi udhar ki hay,
    ek chavanni hansi,
    dosto ne kaha -kinu?
    athanni- ya rupaya kinu nahi,
    tab maine ek kahani sunayi,,
    main ekvar mere aamir mitra ke paas poucha-
    to mere swagat me wo chavanni hansi diye..
    jiska matlab- aye ho thik hay--mang na mat.
    to wo hansi dekh kar main bola--
    hansi udhar ki hay/
    ek chavanni hansi hay--

    उत्तर देंहटाएं
  10. सच कहा आपने ,हंसी भी अब आने के बहाने खोजती है और बहुत नपी तुली मात्रा में ही दिखती है ,लाभ के अनुपात में ही लोग हंसते है .आपकी इस सुन्दर रचना के बहाने ही सही इस दुर्लभ प्रजाति की चर्चा तो हुई .बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  11. क्या हंसी .....
    अब व्यवसाय बन चुकी है //

    हंसी वो उधार है जिसे आप किश्तो मे चुकता करते हैं………………बेहतरीन प्रस्तुति अब तक की।

    उत्तर देंहटाएं
  12. वक्त व्यवसाय के तरीके जान गया है...हंसी इसी दायरे मे आती है...बहुत खूब बबन जी

    उत्तर देंहटाएं
  13. सच कहा भईया अपने ... हंसी तो अब व्यापार ही बन गयी है ....

    उत्तर देंहटाएं
  14. इन आँखों को खुशिया दे ..
    मौला ..
    ये प्यार के काबिल हैं

    उत्तर देंहटाएं
  15. एक एक पंक्तियों ने मन को छू लिया ...
    बहुत संजीदा तरीके से लिखी गयी कविता

    उत्तर देंहटाएं
  16. आज के समय में ज्यादातर लोगों के मन स्थिर नहीं हैं | सभी को कहीं न कहीं जाना होता हैं | २४ घंटों का समय भी कम पड़ रहा हैं | क्या पाया है, उसकी खुशी नहीं जता सकतें मगर क्या नहीं पाया उसका अफसोस और दौड़ रहती हैं.... ऐसे में खुद के बारे में सोचना तो दूर, हँसाना भी लोग भूल गए हैं |

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत ही सुन्‍दरता से व्‍यक्‍त किया है आपने हर भाव को ।

    उत्तर देंहटाएं
  18. पत्नी को कविता पढ़ाई या नहीं सर जी ?

    उत्तर देंहटाएं
  19. बबन जी सही कहा आपने आज हसी का भी व्यवसाई करण हो गया है, लोग वही हॅस्कर दिखाते है, जहाँ उनके स्वार्थ की पूर्ति होती है, वो भी नितांत खोखली हसी.............

    उत्तर देंहटाएं
  20. ehdum khubshurti ke sath sachai prashtut ki hain aisha lagta hain ki aapne ye Raaj mere upper hi likha hain

    उत्तर देंहटाएं
  21. जैसे आज शुद्ध शहद, शुद्ध घी दुर्लभ hai, वैसे ही अब शुद्ध हंसी दुर्लभ हो गयी ही. क्या कीजियेगा, मिलावट का जमाना है बबन जी. बहुत ही चुटीली कविता है. सही कहा आपने

    उत्तर देंहटाएं
  22. क्या हंसी .....
    अब व्यवसाय बन चुकी है // Very True - like it.

    उत्तर देंहटाएं
  23. बबन भाई साहिब .अपनी रचना के माध्यम से आपने आज के सच को उजागर किया .........कि आजकल वास्तविक मुस्कराहट कितनी अमूल्य और दुर्लभ वस्तु हो गयी है ........और जो देखने को मिलती है वो कितनी व्यावसायिक हो गयी है .........pay and get ....concept chalta hai .

    उत्तर देंहटाएं
  24. Babban Bhai,
    Duniya bari hoti ja rahi hai rishtey chotey ho rahe hai. Dikhawat ka jamana hai dikhane ko kewal aadmi muskrata hai baki wo apne aap mein hi mast hai. dinyadari mein hi itna ulzha hai ki uske paas hasne ke liye waqt hi nahi hai.

    Anand Jeet Sharma

    उत्तर देंहटाएं
  25. आपने सही कहा कि हंसी की चिड़िया उड़ चुकी है, लेकिन इसके वजह भी हम खुद हैं. पहले हमें छोटी छोटी चीजों में भी खुशी मिलती थी जबकि आज बड़ी चीजों में हम खुशी नही ढूँढ नही पाते.

    उत्तर देंहटाएं
  26. sach me bohot achchi hai apki kavita......aaj pahli bar aditya uncle ki wall pe apki post dekhi.....wakai bohot achchi hai

    उत्तर देंहटाएं
  27. बहुत संजीदा और मन को छू लेने वाली रचना पाण्डेय जी , बहुत ही अच्छी ! ...साधुवाद!!

    उत्तर देंहटाएं
  28. बबन जी, इस बनावटी दुनिया के पीछे मत जाईये................आप अपना मन साफ़ रखिये और दिल खोल कर हंसिये.................लोग खुद ब खुद आपका साथ पाने को आपके पास आयेंगे..............आजकल यही तो एक ऐसा खज़ाना है जो कीमत चूका कर भी हासिल नहीं होता!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  29. क्या हंसी .....
    अब व्यवसाय बन चुकी है-----
    hansi spontaneous hoti hai---dil se hoti hai--jab jeevan se saralata hi gayab ho gaye---hansi ek vanabat hi reh jayegi---laughter club meine bhi jaa ke dekha hansne ki acting to sekh hi li----

    उत्तर देंहटाएं
  30. हंसी पाने के लिए भी शायद कीमत चुकानी पड़ती है.

    उत्तर देंहटाएं
  31. बहुत अच्छा लगा आपके विचार पढ़ के बहुत ही संदर है आपकी हर पोस्ट कभी अप्प मेरे ब्लॉग पे भी आईये
    दिनेश पारीक
    http://vangaydinesh.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  32. सुन्दर रचना. हँसते हँसते दम भी निकल सकता है.

    उत्तर देंहटाएं
  33. mujhe pahlee hi kavitaa me anand aa gaya.....saaree padhnee hai

    उत्तर देंहटाएं
  34. ऐसा कह सकने की हिम्मत पर दाद कबूल फरमाइए जनाब।

    उत्तर देंहटाएं
  35. हंस कर स्वागत करते है
    दुकानदार ....जब सामान खरीदता हूँ
    एजेंट .....जब पालिसी लेता हूँ
    गर्ल फ्रेंड ....जब पार्टी लेती है
    पत्नी.... जब गहने खरीदना हो
    मित्र .... जब उधार लेना हो //

    क्या हंसी .....
    अब व्यवसाय बन चुकी है //

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में