followers

गुरुवार, 10 फ़रवरी 2011

रैगिंग -4

आदरणीय सीनिअर महोदय के" एक" कहते ही हमलोगों ने ख़ुशी -ख़ुशी अपने शर्ट उतार कर कोने में डाल दिया
'दो' बोलने के साथ ही सबने अपने -अपने गंजी वनियान उतार डाला । 'तीन' बोलने के बाद सबने अपने पैंट उतार दिए । पैंट उतारने तक कोई परेशानी न थी क्योकि अमूनन इस स्थिति में लड़के लोग प्रायः रहते ही है । 'चार' जैसे ही उन्होंने बोला कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई । किसी ने अपना जांघिया नहीं उतारा ।

फिर गालियों की बौछार और गालियाँ भी वैसी जैसे गाँव में anpadh देते है । अब क्या था किसे गाली और थप्पड़ खाना था । सब के सब दो से तीन मिनट के बीच नंगे हो चूके थे । इज्ज़त इसलिए बची थी कि यह फिल्म हास्टल के अन्दर के बरामदे पर फिल्माई जा रही थी जहाँ रोशनी मात्र जीरो वाट के बल्व से आ रही थी । हास्टल के बाहर बड़ा सा मैदान था और किनारे -किनारे कोलतार की सडकें । हास्टल में रहने वाले सीनिअर के अलावे इस नयूड फिल्म का और कोई चस्मदिद गबाह नहीं था ।

फिर सीनिअर द्वारा हर एक दुसरे के अपने आगेवाले मित्र के कंधों पर हाथ देने का आदेश दिया गया । फिर सबसे खड़े लड़के को रेलगाड़ी की छूक - छुक आवाज निकालते हुए हास्टल के बाहर लाया गया ।

6 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (12.02.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.uchcharan.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    उत्तर देंहटाएं
  2. संस्मरण बहुत अच्छा लगा ... बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपके संस्मरण ने समाचारपत्रों में पढ़ी कई घटनाऐं याद दिला दीं... रैगिंग का चलन कभी-कभी भयावह भी होता है।
    अच्छी प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में