followers

शुक्रवार, 12 नवंबर 2010

राजनीति

राजनीती ...
एक गन्दा खेल !!!

इसकी हर चाल में
नेता बनते
हमेशा
राजा और मंत्री ॥

और ....
जनता
हमेशा बनती है
उनका
हाथी /घोडा और सिपाही॥


क्या जनता
हमेशा बनती रहेगी
उनकी कठपुतली ॥

11 टिप्‍पणियां:

  1. बबन जी बनती हैं ना जनता राजा.......हर पांच साल में कुछ दिन के लिए.........कभी-२ यह ५ साल का समय कुछ कम भी हो जाता है......लेकिन जब यह समय आता हैं.तब जनता ही राजा.....और यह लोग नौकर होते हैं.....कितना अच्छा समय होता हैं.......कही.दारू बंट रही होती हैं तो कही पैसा.......कही सारी तो कही कम्बल.......

    उत्तर देंहटाएं
  2. Baban ji Neta hamari bhavnao ko bhunaker apne swarth ki rotia seikte hai, vo hamari bhavnao se khilwaad karte hai, kyunki unhe aisa karne ki chhoot hamne hi di hai, vo her chunaav me hamare saamne hath bandhe khade ho jaate hai, aur hasker mun me kahte hai ki hame ek mauka aur do is baar tumhe kya desh ko bhi bechker kha jaayenge, aur ham kuch accha hoga isi aasha me phir unke jhanse me aa jaate hai, aaj jo neta satta me hai, vo hamari hi den hai, ham apne adhikaaro ki baat to karte hai, lekin kya unse jude kartavyo ke prati jaagruk hai? vote dene ke adhikaar ka proyog hamme se kitne log karte hai, aur iska phyada vo log puri tarah uthate hai, hamare vote ka galat upyog karke, to jab tak ham jaagruk nhi honge, apne kartvyo ke prati, yeh aise hi hamare adhikaro ka hanan karte rahenge.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. Bharat mein rajneeti nakaratmak hai, dalali, commission aur ghotalon se parwaan chadhti hai, aam jan ko kathputli bana kar apna ullu seedha karti hai. Poora loktantra iski lapet mein hai, har aam jan iski chapet mein hai. Poore desh ko apni anguliyon par nacha kar tak-dhina-dhin kar rahi hai. Wah ri Bharat ji rajneeti, nagin ki tarah balkhati hui apne poore rang mein hai, bachna bahut mushkil hai!

    उत्तर देंहटाएं
  4. baban bhai ye rajniti hai..yaha kisi na kisi ko to raja aur sipahi banana hi padega....kiska samay balwan hai ye woqt tay karta hai...

    उत्तर देंहटाएं
  5. democracy is for the people,by the people but unfortunately,in practice, it's all in the hands of selfish politicians!!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेशक आज की 'राजनीति' गन्दी हो और 'नेता' शब्द गाली लगती हो पर 'राजनीति' अपने आप में एक क्रांति है जो समय-समय पर देखा और सुना भी गया है. उदहारण भरे परे हैं जैसे: हमारे देश के आज़ादी, साउथ अफ्रीका की आज़ादी श्री नेल्सन मंडेला के नेतृत्व में, महिलाओं, दलितों और पिछडो की मुख्यधारा में भागीदारी कुछ ज्वलंत उदहारण हैं. गन्दा 'राजनीति' सिर्फ नेताओं और पार्टियों के चलते नहीं बनी, इसमें हम-सब भी बराबर के भागी हैं. कुछ भी हो पाच साल में जो बहुमूल्य अधिकार हमें मिलता है या मिला हुआ है हम सब मिलकर जाती, धर्म, क्षेत्र, भाषा, सम्बन्ध, के नाम पर सिर्फ दुरूपयोग ही करते दीखते हैं, और वजह नेताओं और पार्टियों में ढूढ़ते है. राजनीति जितना अधिकार और अवसर नेताओं को देती है उतना 'हमें' भी पर अफ़सोस तब हम 'हम' नहीं रह पाते और 'गंदे' खेल की शुरुआत यही से हो जाती है...

    उत्तर देंहटाएं
  7. भाई पुष्कर जी @...राजनीती अर्थात राज करने की निति ..इसका मतलब ...यहाँ के नेता ..पैसे कमाने का अर्थ समझाते है ..अच्छा हो ...सांसद और विधायक ..जिनके पास करोड़ों की संपत्ति है ..( घोषणा के affidavit देते है } के पद अवैतनिक कर दिया जाए

    उत्तर देंहटाएं
  8. sir, some people are born to rule and the Janta is only to be ruled because of janta banti nahin balki hai hi KATHPUTALI jise democracy me bhi Kuch Parivar vishesh, jati vishesh,........ jaise visheshon ke aadhar par hi blind voting ki aadat hai, isi liye to hame jaroorat parti ek shashak parivar ki

    उत्तर देंहटाएं
  9. बबन जी शासन की यही व्यवस्था होती है एक जिन पर राज किया जाए और दूसरे वो जो राजा हैं....राजनीति यह है की प्रजा भी राज व्यवस्था देख ले दे कर राजा बन सकती है...

    उत्तर देंहटाएं
  10. rajniti ko ghate ka sauda banakar dekheN, rajniti me saNche log hi aayeNge.

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में