followers

मंगलवार, 16 नवंबर 2010

पदचिन्ह

क्यों न हम
भौतिकी का एक प्रयोग करें
लोहे को
चुम्बक से रगड़ो
उसमें आ जाता है
चुम्बकीय गुण ...//

हम भी बन जायेगे
चुम्बक
गर चलेगें
महापुरुषों द्वारा बनाई
पदचिन्हों पर ....//

4 टिप्‍पणियां:

  1. वन्दे मातरम् बबन भाई....
    बिल्कुल सही कहा आपने...

    उत्तर देंहटाएं
  2. Baban ji, vichaar ati uttam hai.......par kya hum swayam ko to seedhe raaste par rakhne mein saksham hain????

    उत्तर देंहटाएं
  3. बबन जी...........अच्छी रचना..........पर आज तो महापुरुष की भी अलग-२ जमात पैदा होती जा रही हैं......तो यह भी निश्चित करना पड़ेगा........कि आपको किस तरह की qualities चाहिए.....

    उत्तर देंहटाएं
  4. baban bhai sahib..........aap ka kahna sahi hai.........agar chumbak ki tarah.......hum bhi kisi ko follow karke uske jaise ban sakte ........to kitna aasaan ho jaata ......apne ko sudharna.........

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में