followers

सोमवार, 13 सितंबर 2010

तुम्हें नरसिंह बनना होगा

तुम मुझे जो भी कह लो
सुन लूंगा चुपचाप
चाहे मुझे तुम
पाखंडी /देशद्रोही /बलात्कारी
व्यवस्थाओ को तोड़ने वाला
या फिर उग्रवादी विचारों वाला कह लो
तुम जानते हो /इन बातों से
मैं तुम्हारा कुछ नहीं बिगाड़ सकता ॥


भला , सिर्फ विचारों के प्रहार से
क्या बिगड़ेगा तुम्हारा
जरा ,..एक चोर को चोर कह कर देखो
कुरूरता के भयानक पंजे
चीथड़े -चीथड़े कर देगी तुम्हें
अरे ..छोड़ो ....
सच का सामना कितने लोग करते है ॥

जानता हूँ ...
सत्य कर्म पर अग्रसर प्रह्लाद पर
जुल्म ढाते हिरण्यकश्य्पू का वध करने
कोई नरसिंह नहीं आयगा ॥

मेरे दोस्तों ...
लगाना होगा इन्कलाब
जलाना होगा
अपने अधिकारों के तेल से बने लुकाठी का मशाल
जागो ...
तुम्हारे अंगों में पानी नहीं /लाल खून है
बढ़ने दो अपने नाखुनों को
हो जाने दो केश -राशि लम्बे
बन जाओ नरसिंह
वध कर दो उन हिरनकश्पुओ का
जो....
भ्रस्टाचार/आतंकबाद /नक्सलवाद के
आग की लपटें फैला कर
कर रहे है देश को खोखला
अंदर ही अन्दर ॥

5 टिप्‍पणियां:

  1. तुम्हारे अंगों में पानी नहीं /लाल खून है
    बढ़ने दो अपने नाखुनों को
    हो जाने दो केश -राशि लम्बे
    बन जाओ नरसिंह
    वध कर दो उन हिरनकश्पुओ का



    वाह-वाह पाण्डेय जी इसी तरह लिखते रहिये और इन हैवानों के खिलाप युद्ध का शंख नाद करते रहिये ..शानदार प्रस्तुती ...इन हरामियों को वास्तव में उसी तरह बध करना होगा जिस तरह हिरन्यकश्यप का हुआ था ..

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में