followers

शनिवार, 2 अक्तूबर 2010

किसानों ने हमें शाकाहारी बनाया

पहले भी थे भगवान्
आज भी हैं /कल भी रहेगे
मगर .....
पहले अन्न नहीं थे ॥

हमारे पूर्वज निर्भर थे
जानवरों की माँस पर
भगवानो /देवियों पर भी
माँस का भोग लगाया जाता होगा
आज भी जारी है ॥

फिर किसानो ने
पैदा किया अन्न
हम शाकाहारी बन गए॥

4 टिप्‍पणियां:

  1. Kisano ne hi hame sakahari banaya yani janawar se hame insan banaya, aur aaj kisano ki hi halat kharab hai. Bharat ek krishi pradhan desh hai, aur yaha krishi karane wala kisan hi garib hai.
    kya yah hamare desh ka durbhagya nahi hai? Bade bhai Ji, aap ke soch bahut hi sarahaniya hai...ham natamastak hai aap ke.

    उत्तर देंहटाएं
  2. shaileshwar ji ...sahi kaha aapne ....jaagrukta ...badh rahi hai ...anaaj ..karkhano me nahiban sakte ....unhe kheto me hi paida karna hoga ...isliye kisaan ..bhagwaan se kam nahi ..

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में