followers

रविवार, 22 अगस्त 2010

क्या चिड़िया के बच्चे घर लौटेगे

मुझे नहीं पता
चिड़िये के उस जोड़े को
कितना समय लगा होगा
अपना घोसला बनाने में ॥

फिर उसने अंडा दिया
उसे बचाया ....
वर्षा /धुप /शीत और दुश्मनों से ॥

रोज बच्चों को छोड़कर
उसकी माँ .....सुबह में
निकल जाती घोसले से
अन्न की तलाश में ॥

शाम को उसे
बड़ा सकून मिलता
जब वह बच्चों के चोंच में डालती
अन्न के दाने ॥

समय गुजरता गया
माँ के बाहर निकले , बच्चे
देश -दुनिया देखा ...
उन्हें अपना घोसला छोटा नज़र आया
फिर कुछ बाद ....
वे बच्चे लौटकर घर न आये ॥

चिड़ियों का जोड़ा
अब वृद्ध हो चूका है
उसे अब भी इंतज़ार है
अपने लाडलों के आने का ॥

क्या उसके बच्चे
अपने माँ -बाप को देखने लौटेगे ॥

1 टिप्पणी:

  1. वर्तमान का यही स्वरुप है. हर घर में चिड़ियों को बच्चों का इंतज़ार है. अति उत्तम लेखन के लिए बधाई.

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में