followers

गुरुवार, 26 अगस्त 2010

भींगे बदन ने तो तन -मन जला डाला

काले बादल
और तेरी काली जुल्फों में
सिर्फ एक ही अंतर है
काले बादल सिर्फ बरसात में बरसते है
काली जुल्फें आपकी मर्ज़ी पर ॥

बन्दूक से चली गोली
और आपकी आंखों से चली गोली में
सिर्फ एक ही अंतर है
बन्दूक की गोली एक को मारती है
आपके आंखों की गोली लाखों को ॥


कहते है
पानी आग को बुझा देती है
मगर ये क्या
आपके भींगे बदन ने तो
मेरा तन मन ही जला डाला ॥

1 टिप्पणी:

  1. वाह वाह .. सर्दियों की मीठी सुरुआत के साथ आपका इस रस में आना लाजमी है .. बेहतरीन लिखा है .. वाकई आँखों की गोली लाखो को मार देती है

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में