followers

शनिवार, 28 अगस्त 2010

हड़ताल एक यज्ञ है

मित्रों ......
हड़ताल एक यज्ञ है
कर्मचारियों द्वारा लगाया गया नारा
घी और हुमाद
हडताली नेताओं के भाषण
वेदों के मंत्रोच्चार
उठने वाला धुयाँ
वार्ता के लिए बुलाया जाना
और मांगों को मनवा लेना
अभिस्ट की प्राप्ति ॥

चिल्ला रहा था
कर्मचारियों का नेता
इसलिए दोस्तों
जोर-जोर से नारे लगाओ ॥

जब लाल कोठी के निक्क्मो का वेतन
तिगुना हो सकता है ....
हमलोगों का क्यों नहीं ॥

2 टिप्‍पणियां:

  1. kavita aawaz buland karti rahe yun hi!
    yagya sarwada aahuti mangta hai...
    hadtal bhi yagya hi hai kyunki yahaan bhi jaroori hai aahutiyan... niji swarth se upar uth
    dhyeye hetu ladhne ka hausla!
    subhkamnayen!

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में