followers

शनिवार, 4 दिसंबर 2010

प्रेम की चिड़िया


मेरे पास थी एक चिड़िया
उछलती थी
कूदती थी
फांदती थी
उड़ते रहती थी
कभी माँ के आँचल में
कभी पिताजी के कंधे पर
कभी भाभी की साडी से
जाती थी लिपट
कभी दोस्तों के यहाँ
कभी पड़ोसियों के यहाँ
कभी चुग लेती थी
खेतों से मटर और चना //

काम /काम /काम
काम से फुर्सत नहीं था मुझे
मैंने उसे खाना नहीं दिया
ना ही पानी
उसके पंख टूट गए
वह मर गई //

जानते है
वह चिड़िया कौन थी
वह थी ....
मेरे दिल में रहनेवाली
प्रेम की चिड़िया //

43 टिप्‍पणियां:

  1. वह थी ....
    मेरे दिल में रहनेवाली
    प्रेम की चिड़िया //
    वाह!!!वाह!!! क्या कहने, बेहद उम्दा

    उत्तर देंहटाएं
  2. उफ़!प्रेम की चिडिया का ये हश्र!!!!!!बेहद मार्मिक चित्रण कर दिया।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बबनजी,
    काफ़ी अरसे के बाद लिख रहा हूँ... क्षमा चाहूँगा...
    प्रेम की चिड़िया दिल के अन्दर रहती है... और वहीँ फुदकती रहती है...
    बाहर किसीको क्या पता आपके अन्दर कौन, क्या ओउर क्यों फुदक रहा है... और उसकी देखभाल भी आप ही को करनी है...
    बात बड़े मर्म की है...

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह भ्राता श्री, एक बार फिर प्रेम का करने का वहि शिला! इस बार खुद हमने ही गर्दन मरोड़ डाला ! आह्हह !... बहुत ही सुन्दर!

    उत्तर देंहटाएं
  5. जानते है
    वह चिड़िया कौन थी
    वह थी ....
    मेरे दिल में रहनेवाली
    प्रेम की चिड़िया /

    -बहुत गहरे भाव!!आत्म मंथन चल रहा है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. नन्हा सा पंछी रे तू,बहुत बड़ा पिंजरा तेरा,,
    ,उड़ना जो चाहा तो कहाँ तुझे उड़ने दिया',,
    लेके तू पिंजरा उड़े,चले कभी ऐसी हवा.








    नन्हा सा पंछी रे तू,बहुत बड़ा पिंजरा तेरा,,
    ,उड़ना जो चाहा तो कहाँ तुझे उड़ने दिया',,
    लेके तू पिंजरा उड़े,चले कभी ऐसी हवा.








    नन्हा सा पंछी रे तू,बहुत बड़ा पिंजरा तेरा,,
    ,उड़ना जो चाहा तो कहाँ तुझे उड़ने दिया',,
    लेके तू पिंजरा उड़े,चले कभी ऐसी हवा.








    नन्हा सा पंछी रे तू,बहुत बड़ा पिंजरा तेरा,,
    ,उड़ना जो चाहा तो कहाँ तुझे उड़ने दिया',,
    लेके तू पिंजरा उड़े,चले कभी ऐसी हवा.

    उत्तर देंहटाएं
  7. दो चिडियाँ चूँ-चूँ करती हैं

    दो नन्हीं परियाँ सँग-सँग चलतीं हैं

    मेरे बाग़ में , हंसती हैं और मचलती हैं

    दो चिडियाँ चूँ-चूँ करती हैं


    झट से यूँ मुस्का देती हैं

    रंग सारे बिखरा देती हैं

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर रचना!
    व्यस्तताओं के बीच कोमल भावनाओं का ख्याल भी रखना चाहिए!!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत संवेदनशील बात कही है ....प्रेम भी तभी फूलता फलता है जब उसको दाना पानी मिलता रहे

    उत्तर देंहटाएं
  10. ‘प्रेमकी चिडिया’...यानि कि अपनों से स्नेह बंधन..मां..पिताजी..भाभी..पडोसी..सब.समय की व्यथा है बबनजी...भौतिक युग मे मांनवीय मूल्यों का आधार रह ही कहां गया है..अब तो तीज त्यौहार भी एकांत मे ही होते है..प्रेम की चिडिया की यह अवस्था . .महादेवी वर्मा की पंक्तियां..’विस्तृत नभ का कोना कोना..मेरा ना कोई अपना होना..उमडी कल थी..मिट आज चली’..

    उत्तर देंहटाएं
  11. एक ऐसी चिड़िया जो हर किसी के
    दिल में होती है ये अलग बात है की
    अवस्था के अनुसार इसका अर्थ
    बदलता है ..अतिसुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  12. Er. Baban ji ...very very Emotional expressions..Great lines. God bless you Dear sir.

    उत्तर देंहटाएं
  13. शुक्रिया ...मित्रों
    संजय भास्कर जी /
    वंदना गुप्ता जी
    सुरेन्द्र सिंह झंझट जी
    मधुसुदन मुस्करा जी

    उत्तर देंहटाएं
  14. मैंने उसे खाना नहीं दिया
    ना ही पानी
    उसके पंख टूट गए
    वह मर गई //
    जानते है
    वह चिड़िया कौन थी
    वह थी ....
    मेरे दिल में रहनेवाली
    प्रेम की चिड़िया //
    Bahoot khubsoorat....
    prem rupi bel ko falne fulne ke liye pyar ka pani hi nahi dariya bahani hogi..

    उत्तर देंहटाएं
  15. prem hi to insan ke vazood ka parichay hai. is chidiya ko zinda rahna zaroori hai .

    उत्तर देंहटाएं
  16. baban bhai sahib.....bahut sunder shabdon mei aapne hum sab ke ander chhupi bhavnao ko vyakt kiya hai........
    दिल में छुपी कोमल भावनाएं
    रूप चिड़िया का लेकर फ़ूद-फुदायें
    पर पिंजरे में बंद रह कर
    थोड़ा छटपटाये
    कोई करे आज़ाद ,उड़ने दे उन्हें
    स्वछन्द गगन में जहाँ चाहें

    उत्तर देंहटाएं
  17. जानते है
    वह चिड़िया कौन थी
    वह थी ....
    मेरे दिल में रहनेवाली
    प्रेम की चिड़िया|

    सच ही कहा है आपने प्रेम कीस चिड़िया को भी दाना, पानी और सेवाकी जरूरत होती है इनसब के बिना ये भी दम तोड़ देती है,अगर इस चिड़िया को ज़िंदा रखना है तो दाना पानी, और इसकी सुधि लेनी होगी| तभी चिड़िया हमारे घर आंगन में फुदकेगी|
    इस सुन्दर रचना के लिए धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  18. "प्रेम से प्रभु की उत्पत्ति होती है".."जहाँ प्रेम नहीं है, वहाँ ईश्वर का वास नहीं होता, "प्रेम ही ईश्वर है"...अतः प्रेम तत्व का वास सदैव हमारे ह्रदय में रहना चाहिए.."प्रेम तत्व कभी ख़त्म नहीं होता...परमपिता परमेश्वर से प्रार्थना करूँगा हम आम इंसानों की "प्रेम की चिड़िया का वास सदैव हमारे घरों में रहे, वो कभी हमारे घर से न जाये".."प्यार की अखंड- ज्योत निरंतर जलती रहनी चाहिए"..आदरणीय बबन सर..आपके स्नेह की प्रतीक्षा में...

    उत्तर देंहटाएं
  19. ye kavita to maine kal hi padhi thi, lekin tippani nahi ki...darasal thoda bahut jo samay milta hai main padhne me wyatit karta hoon...

    bahut achhi kavita hai...

    उत्तर देंहटाएं
  20. काम से प्रेम अवश्य
    कोई विवशता रही थी
    प्रेम की चिड़िया
    काम से बेफुर्सती की
    बलि चढ़ गई!

    उत्तर देंहटाएं
  21. प्रेम के दर्द को महसूस कराती सुन्दर कविता । बधाई व आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  22. बबन जी..........इस भौतिक वादी युग में..........दिल कि चिड़िया को हम मारे जा रहे है...........इसे पुनर्जीवित करना होगा.....फिर से इसे चखने के लिए खुला छोडना होगा..जिस से हम सब अपने दिल की आवाज़ भी सुन सके.......बहुत अच्छी रचना आपकी.......

    उत्तर देंहटाएं
  23. ओह !!अंतिम पंक्तियाँ बेहद मार्मिक पर बहुत सुन्दर तरीके से बयां किया ....
    सही कहा आपने दिल रूपी चिड़िया को भी खुराक की जरुरत होती है ....बहुत सुन्दर सन्देश

    बबन भाई....बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  24. अत्यंत भावुकता और मार्मिकता से भरी कविता | बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  25. बबन जी एक बहुत ही उम्दा रचना मर्म को छूटी हुई, सच मे आज इंसान भोतिकता की दौड़ मे इतना लीन हो गया है, कि प्यार के भाव सूख गये है उसके मन मे................

    उत्तर देंहटाएं
  26. बबन जी! आपने अपने दिल से यथार्थ को स्वीकार किया है. कटु सत्य है हम सभी इस प्रेम, स्नेह, ममता रूपी चिड़िया को कटुता, घृणा, लालच के तिलिस्म से 'मार' चुके है. अब सिर्फ विशुद्ध पेशेवर हंसी, प्रेम, मित्रता रह गयी है, यह पेशेवर मित्रता न सिर्फ कार्यालयों में बल्कि घर में भी स्वार्थी हंसी, प्रेम दिखाया जाता है. जब प्रेम की 'चिडया' दिलों में जिन्दा थी तो न सिर्फ अपनों को, दोस्तों को, बल्कि गैरों से भी बिना चिंता, शर्त मिलते थे, कुशल-खेम पूछते थे, अब तो मिलना-जुलना भी शर्त से होता है. .... उस चिड़िया को 'जिन्दा' रखने की कोशिस करनी चाहिए.... आइये फिर 'शर्त' को छोड़ बिनाशर्त मिलना-जुलना शुरू करें! शरुआत तो करें...'चिड़िया' अवश्य फिर से कलरव करने लगेगी.......
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  27. दिल टूट रहे हैं प्रेम के न रहने से..
    परिवार बँट रहे है प्रेम के न रहने से..
    दोस्त दुश्मन हुए प्रेम के न रहने से..
    संत भी गुनाह कर रहे हैं प्रेम के न रहने से..
    हम भी हैवान हो रहे है प्रेम के न रहने से..
    संजीव गौतम ..

    उत्तर देंहटाएं
  28. बबनजी , आपकी यह रचना दिल को छु गयी ,वाकई में अगर प्रेम दिल में उजागर रखना है तो उसे वक़्त तो देना ही होगा .कब ,कितना इसका कोई माप यन्त्र नहीं हैं. वैसे जब जागो तभी सवेरा.........अभी भी जाग जाईये , देर नहीं हुई है.:-))

    उत्तर देंहटाएं
  29. The tragedy of love is dat it starts wid fear n ends wid tear :(

    उत्तर देंहटाएं
  30. Thanks to esteemed readers//
    Mpnali ji /
    vijay lakshmi bhuwania ji /
    sanjeev gautam ji /
    sandhy ji /
    step ahead/
    kiran arya ji /

    उत्तर देंहटाएं
  31. Baban ji ye jo prem ki chidiya jise aapne mar dala use aap fir se jivit karen, ye aapke hath me hai, aise mardene se kam nahi chalega, agar dilme prem ki chidiya ki jagah khali raha to wahan nafrat ki chidiya aakar ghar banalega,

    aur main chahta hun ki prem ki jagah sirf prem hi rahe, nafrat ko kabhi usme rahne keliye jagah mat dijiyega, ye meri aapse gujaris hai,nibedan hai,

    उत्तर देंहटाएं
  32. हिर्दयविदारक , आँखों लोरिय गइल , बहुत अंदर की चोट भाई जी साधुवाद रउरा लेखनी के !

    उत्तर देंहटाएं
  33. मेरे दिल की चिड़िया सहम गयी आपकी कविता पढ़ कर
    -------------------------------------
    दिल के घोसले में रहने वाली चिड़िया
    मर गयी
    टूट गए
    भावनायों के फडफडाते पंख
    क्योंकि दिल दिल न रहा
    पिंजरा था.
    जहाँ रखी न गयी
    स्नेह की जल- कटोरी
    और प्यार का दाना !
    अफ़सोस
    पर शायद
    दिल के कोने में पड़ा है उस चिड़िया का अंडा
    प्रेम की आंच
    अपनेपन की गर्माहट
    आस बांध सकती है
    चिड़िया के फिर फुदकने की .
    कोशिस तो करो .....
    ----------------------------

    उत्तर देंहटाएं
  34. वह थी ....
    मेरे दिल में रहनेवाली
    प्रेम की चिड़िया ...मर्मस्‍पर्शी रचना

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में