followers

गुरुवार, 23 दिसंबर 2010

हाथ मजबूत करने की कला


हाथ मजबूत नहीं होता .....
हाथ मिलाने से
और
दोस्तों की संख्या बढ़ाने से //

हाथ मजबूत नहीं होता
आशा की चिड़िया के पंख सहलाने से
वादों की पेड़ में पानी देने से
और
अशवाशनो के गुब्बारों में हवा भरने से //

हाथ मजबूत होता है मेरे दोस्त !
कुदाल चलाने से
और
कीचड़ में फ़सी बैलगाड़ी को
धक्का देकर बाहर निकालने से //

20 टिप्‍पणियां:

  1. जी हाँ हाँथ मजबूत होता है..
    कुछ कर दिखाने से...
    गिरतों को उठाने से...
    रोतों को हंसाने से...
    काँटों में भी फूल खिलाने से....
    बहुत खूब बबनजी

    उत्तर देंहटाएं
  2. हाथ मजबूत होता है मेरे दोस्त !
    कुदाल चलाने से
    और
    कीचड़ में फ़सी बैलगाड़ी को
    धक्का देकर बाहर निकालने से //

    लेकिन एक विडम्बना है इन मजबूत हाथो के कई ऐसे अनछुए दर्द है ...जो हाथ को मजबूत करने वाला किसान या मजदूर स्वयम में जीता है.....
    भारत की एक हकीकत है ....यहाँ सरकारी क्षेत्र में कम करने वाले एक चपरासी की रोज़ की पगार भी एक किसान से बहुत जयादा है....फिर हम कृषि प्रधान देश है.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. बबन जी एक अच्छा सन्देश........कि जमीन से जुड कर ही समस्याओ का अंत हो सकता है.....सिर्फ सपने दिखाने , दिखावे और शोशे-बाज़ी से नहीं....

    उत्तर देंहटाएं
  4. बबन जी , सन्देश पहुँचाने वाली एक अच्छी कविता, सच है.............हाथ मजबूत होते है कुछ करने से .............सिर्फ सपने देखने दिखाने मात्र से नहीं.

    उत्तर देंहटाएं
  5. baban jee,aapki rachanao main ek chintan milta hai...aur chintan ka sakaar roop dekhne ko milta hai...aur hamain milta hai ek vichar...likhte rahain , hamain padate rahain

    उत्तर देंहटाएं
  6. shukriya.
    sanjay bhaskar ji //
    vijaylakhmi ji /
    prakash ji /
    naresh bhai /
    sandhya ji /
    anupmaa pathak ji /
    priyadarshan ji /

    उत्तर देंहटाएं
  7. Nicely said.. these short poems r always full of lessons :)

    उत्तर देंहटाएं
  8. हाथ मजबूत होता है मेरे दोस्त !
    कुदाल चलाने से
    और
    कीचड़ में फ़सी बैलगाड़ी को
    धक्का देकर बाहर निकालने से //

    sunder abhivyakti!

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपनी सटिक लिखा है . किन्तु आज का युवा कुदाल पहचानता है क्या?

    उत्तर देंहटाएं
  10. Baban ji sahi kaha aapne jhute aashvashno aur dilaaso se hath kabhi majboot nahi hota, hath majboot hota hai mehnat se dusro ki madad karne se, ek sarthak rachna, hardik badhai...........

    उत्तर देंहटाएं
  11. सौ आने सच कहा आपने.....
    जीवन का एक अप्रतिम सच !

    उत्तर देंहटाएं
  12. ji han sahi kaha haath majboot hota hai hath bda karek dusre ki madad karne maijdo kamjor haath mil kar majboot hote hain aur majboot haath aur majboot

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपका कथन साश्वत सत्य है,
    प्रार्थना में जुड़े हाथ अच्छे ,,या,
    सहयोग/मजदूरी में लगे हाथ.
    "अपना हाथ जगन्नाथ"

    उत्तर देंहटाएं
  14. http://harobaronews.blogspot.com/2010/12/confirmed-redsn0w-untethered-jailbreak.html

    उत्तर देंहटाएं
  15. बबन जी , सन्देश पहुँचाने वाली एक अच्छी कविता, सच है.............हाथ मजबूत होते है कुछ करने से .............सिर्फ सपने देखने दिखाने मात्र से नहीं
    Dhananajay

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में