followers

बुधवार, 1 दिसंबर 2010

घोसला

ओ !... नभचरों
सारा आकाश है तुम्हारा
मगर ....
तुमने बनाया मात्र
एक घोसला
अपने रहने के लिए //

मैं पेशोपेश में पड़ गया हूँ
क्यों दिग्भ्रमित करते हो मुझे
मुझे संतोष नहीं एक घोसले से
आदमी हूँ एक
पर ,घोसला चाहिए अनेक //

34 टिप्‍पणियां:

  1. जी बबन जी आजकल चाह ज्यादा की है लेकिन अपने तक सीमित

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक आम भारतीय, जिसकी योग्यता भी सिर्फ़ यही है कि वह एक आम भारतीय है जिसे यह नहीं मालूम कि आम से ख़ास बनने के लिए क्या किया जाए फ़िर भी वह आम से ख़ास बनने की कोशिश करता ही रहता है…।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सारी उम्र दौड़ता रहा..बनाता रहा अनगिनत घोंसले अपनों के लिए..अंत में नसीब न हुआ मुझे खुद अपना सपनों का घोंसला"

    उत्तर देंहटाएं
  4. गहरे चिन्तन से उपजा जीवन दर्शन का सुन्दर सूत्र। आदमी सभी जीवों से गया गुजरा है। दिल को छू गयी रचना। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  5. जीवन दर्शन से परिचय कराती एक बेहद भाव मयी रचना………बबन भाई !!!!!……दिल को कहीं गहरे तक छू गयी ।
    REGARDS

    उत्तर देंहटाएं
  6. बबन भाई आप छोटी छोटी बातों को पकड़ उनके गहरे मतलब निकल लेते हैं...और यह सत्य भी है...मानव है ही ऐसा...ना उसकी अधिक की चाह ख़त्म होती है ना महत्वकांक्षाएं...बहुत अच्छे भावों की रचना....शुभकामनाएँ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मनोज भाई .. सारे रहस्य प्रकृति में ही छिपे है

      हटाएं
  7. ji haan , aadmi ki fitrat hai ye ...use kitna bhi mil jaye , kabhi santosh hi nahin hota ...aur ab to ye bhautikwadi mansikta badhti hi ja rahi hai..ek achchhi yatharthwadi rachna ke liye dhanyawad ....

    उत्तर देंहटाएं
  8. ्बस यही तो फ़र्क है आदमी और नभचर मे…………………आदमी की फ़ितरत को बखूबी उकेरा है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह बबन भाई .....मैनें इस से बढ़िया .... कटाक्ष .....इन दिनों में नहीं देखा है ....बहुत ही सुन्दर आप की ये पक्तियां !!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!धन्यवाद जी !!!!!!!!!!!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. आदमी की बेंतिहन चाहत को उजागर करती अच्छी अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत खूब बबन जी....अच्छा कटाक्ष है ......पर आज तो हालत यह है बहुत सारे घोसले चाहिए ........पर घोसले खाली भी नहीं चाहिए...

    उत्तर देंहटाएं
  12. सच!संतोष ही नहीं हमें!
    सुन्दर रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  13. पुरे भरे पुरे घोसले चाहिए नरेश भाई //

    उत्तर देंहटाएं
  14. सच कहा .यही तो इंसानी फितरत है.

    उत्तर देंहटाएं
  15. बबन जी बहुत खूब इंसान की महतावकांशाओ को दर्शाती एक सुंदर रचना, आज इंसान के पास जो है, वो उसमे खुश और संतुष्ट नही है, उसे और चाहिए, इंसान की मानसिकता के गिरते स्तर का यथार्थ चित्रण...........

    उत्तर देंहटाएं
  16. कम शब्दों में बहुत प्रभावशाली अभिव्यक्ति....मनुष्य के असंतोष से उपजे महत्वाकांक्षाओं के स्तर को दर्शाती ..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  17. Waah Baban jee... Mann ki asimit ichhaon ko bahut hi khoobsurti se aapnein shabdon mein baandha... Waah...!!

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत खूब...क्या बात कही है

    मनुष्य की लिप्सा को आपने कुशलतापूर्वक शब्दों में पिरोया है।

    उत्तर देंहटाएं
  19. Lagta hai ki
    leo tolstoy wala "how much land does a man need?" kahani sabhi ko padhani hogi.

    उत्तर देंहटाएं
  20. Nice poem Babanji, what you have written is the absolute truth of life..............it is we humans only who are full of greed.............never contented with what we have..............we always want more...........so always unhappy ............in turn unsatisfied...........result.............causing unhappiness to everyone around us!!!

    उत्तर देंहटाएं
  21. आपकी रचना बहुत अच्छी लगी .. आपकी रचना आज दिनाक ३ दिसंबर को चर्चामंच पर रखी गयी है ... http://charchamanch.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  22. This is the first time i m reading your blog..Very beautiful creation... .For a moment i went back to my mom's lap and believe me i got recharged .those few seconds gave me an unspeakable strength to move forward onto the right path considering the base ...

    उत्तर देंहटाएं
  23. This is the first time i m reading your blog..Very beautiful creation... .For a moment i went back to my mom's lap and believe me i got recharged .those few seconds gave me an unspeakable strength to move forward onto the right path considering the base ...

    उत्तर देंहटाएं
  24. THANKS....@ Chandan Gunjan ....
    wy work got a success// keep reading//

    उत्तर देंहटाएं
  25. very true...very nice Insinuation...aadmi ki fidrat hi kuch aisi.... ek nahi anek vo bhi gonsle hindustan hi nahi puri dunai main chahiye...

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत कटु सत्य..लेकिन इतने घोंसले बनाने के बाद भी क्या किसी एक घोंसले में शांति से रहने का सुख नसीब हुआ? बहुत सुन्दर प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  27. "आदमी हूँ एक
    पर ,घोसला चाहिए अनेक"

    अंत हीन तृष्णा .. सुन्दर अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में