followers

गुरुवार, 16 दिसंबर 2010

कल TOMORROW


कल मैं आपका काम कर दूंगा
सुन कर हँसता है "आज"
हा हा हा //

"आज" कहता है
सुबह के साथ जन्म लेता हूँ
शाम को मर जाता हूँ
मैं "कल" को नहीं जानता //

अरे भाई ...
आज की सुनिए
कल की छोडिये //

29 टिप्‍पणियां:

  1. आदम कौन है.. जिसमे दम है..आदम "जो आज है".. और दम तो बस पल भर का होता है.."कल न तूने देखा है न मैंने"...जो भी है बस यही एक पल है..जी ले इस पल में..

    उत्तर देंहटाएं
  2. ye hamari aadat hoti hai ...har kaam ko kal par talna ...par sahi hai - kal ka kya bharosa !!
    isiliye - kaal kare so aaj kar ...aaj kare so ab .... Jeena to aaj mein hi chaahiye .....
    achchhi rachna ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. कम शब्दों में बहुत बड़ी बात कहने की कला आपकी विशेषता है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूब...चलिए मिलकर इस आज को जी लें...

    बहुत सुन्दर विचार....
    मेरा बचपन ..

    उत्तर देंहटाएं
  5. आज मे जीना ही जीना है कल किसने देखा है।बहुत सुन्दर्।

    उत्तर देंहटाएं
  6. कल उम्मीदों का सफ़र,
    कल आज को बेह्टर करने की चाह
    कल हसीं सपनो को नए आयाम तक ले जाने की राह,
    फिर न जाने ये
    कल
    बदनाम क्यों है.....

    उत्तर देंहटाएं
  7. अमित चन्द्रा से आपके बारे मे सुना था आज आपके कविताओं को स्पर्श से आपको बेहतर जान पाया..

    उच्च स्तरीये लेखन के लिये साधुबाद

    उत्तर देंहटाएं
  8. पुरानी कहावत की याद ताज़ा करवाती हुई.........आपकी रचना...
    कॉल करे सो आज कर
    आज करे सो अब
    पल में प्रलय होएगी
    फिर करेगा कब....

    बहुत बढ़िया.....

    उत्तर देंहटाएं
  9. bahut sundar.....

    aaj hi apna hai, ...
    aane wala kal to bas sapna hai....

    Thanks 4 sharing

    उत्तर देंहटाएं
  10. सही कहा आपने कल किसने देखा है! बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति !

    उत्तर देंहटाएं
  11. "आज" कहता है
    सुबह के साथ जन्म लेता हूँ
    शाम को मर जाता हूँ
    मैं "कल" को नहीं जानता //
    बहुत ही सारगर्भित पंक्तिया है...चंद पंक्तियों मव ही जीवन का सार निहित है...आपको बहुत-बहुत बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  12. Baban ji hamesha ki tarah hi ek sunder aur saar garbhit rachna, sach kaha aapne aaj me jeena hi jindagi hai, kal kisne dekha hai...........hardik badhai..........:))

    उत्तर देंहटाएं
  13. aaj me hi to sara saar hai, kal ka kya hai vo to kabhi aata hi nahi....

    bahut achchi aur sachchi kavita... :)

    उत्तर देंहटाएं
  14. pratyek din ek naya aaj janam leta hai aur sam dhalte dhalte hi aaj samapt ho jata hai aur 'aaj' dusre 'aaj'(kal-tomorrow)se mulakat nahi hota hai,
    kal kisne dekha hai?
    ham logon ki aadat bangayee hai kal ho jayga,
    aaj hi apna hai, ...
    aane wala kal to sirf sapna hai....
    Bababn ji behtareen rachna....

    उत्तर देंहटाएं
  15. आज की सुनिए
    कल की छोडिये............bahut sundar sandesh baban bhai ..........

    उत्तर देंहटाएं
  16. जो भी है यही पल है ..क्यों ना इस पल को जी लें ।
    कौन जाने ...कल हो ना हो ..समय की क्षण-भंगुरता लक्ष्य करती पंक्तियाँ ...!!!

    उत्तर देंहटाएं
  17. आज का जीवन ही आज है..कल फिर जी उठेगा आज बनकर.”....

    उत्तर देंहटाएं
  18. शुक्रिया /
    जगदीश तिवारी भाई /
    आभा दीदी /
    सरोज बहन /
    अशहर फारुखी जी /
    शम्भू नाथ पाण्डेय भाई /...हौसला बनाए रखे

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत ही मार्मिक कविता है। निरन्तर् वर्तमान ही है बिता हुआ कल स्मृति है तो आने वाला कल अदृष्ट। दोनो की सत्ता वर्तमान पर ही निर्भर है। यही हमारा है।

    उत्तर देंहटाएं
  20. गागर में सागर वाली बात आपने चार शब्दों में सत्य कर दी, बब्बन जी Iसत्य, अगर है तो बस ये पल, जोबीत रहे हैं I आज, यानी वर्तमान I अधिकाँश लोग अपनी ज्यादा जिन्दगी या तो अतीत में खो कर या भविष्य के सुनहरे स्वप्नों में ही बिता देते हैंI आज में जो आनंद है वो कल में कहाँ? कल किसने देखा है ? जिन्दगी का मजा तो हर पल में है I हर पल यहाँ जी भर जियो, कल फिर ये समाँ हो न हो I हरपल झूम के जियो I सुन्दर अभिव्यक्ति के लिए धन्यवाद व् शुभ कामनाएं I

    उत्तर देंहटाएं
  21. "kal"...............mein yeh kar doonga, woh kar doonga...............par kya "kal" kisi ne dekha hai...........hum log to roz hi "aaj " mein jeete hain........."kal" na kisi ne dekha hai, na dekhega.isiliye kahawat sahi hai........"kaal kare so......"!!!!Bahut badhiya Babanji......keep it up!!!

    उत्तर देंहटाएं
  22. बेहद ख़ूबसूरत और उम्दा ....!!

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में