followers

शनिवार, 25 दिसंबर 2010

फर्क

रौशनी के पीछे
भागने का काम है
पतंगों का //

मैं इंसान हूँ , मेरे दोस्त
मुझे चकाचौंध से क्या लेना
मैं तो बना हूँ ....
अँधेरे को उजाले में बदलने के लिए //

14 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर अहसास...कर्म प्रधान का संदेश

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छी सोच ....मैं इंसान हैं की जगह -- मैं इंसान हूँ कर लें

    यहाँ आपका स्वागत है

    गुननाम

    उत्तर देंहटाएं
  3. Wah Babanji ... Bahut hi sunder Panktiyan hain..
    Aap to bane hi hain andhere ko ujalon me badalne ke liye.. Prayas karte rahiye saflta jaroor milegi.. All the best...........

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह ..वाह ..बबन जी ...छोटी किन्तु भावपूर्ण सकारात्मक भाव से लाबरेज .रचना ...बधाई !!!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. वक़्त की कोख में उदासी है,
    अब समन्दर में मीन प्यासी है!

    उत्तर देंहटाएं
  6. //मैं तो बना हूँ ....
    अँधेरे को उजाले में बदलने के लिए //....
    अर्थपूर्ण बात......सार्थक कर्म करते रहो.....वही जरूरी है.......

    उत्तर देंहटाएं
  7. insaan andheron se ladne ke liye hi bana hai... aur safal insaan wahi hai jo samaaj ke liye andhere mein roshni dikhata hai... apki rachna marmsparshi hau.... badhai ...

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में