followers

सोमवार, 7 जून 2010

मेरी उबड़ -खाबड़ गज़लें (भाग -२)


उन सभी दोस्तों को समर्पित ...जिन्होंने आज ..मेरी कविताओ पर लम्बी वहश की है ...आएये दोस्तों ..कुछ मूड फ्रेश कर लीजिये ॥

(८)

फूलों से लदी डाली , जैसे झुक गयी कचनार की
किस -किस को बताऊ , अपनी ब़ाते प्यार की ॥
(९)

हवाओ ने छुआ तुम्हें ,सिहरन मुझे होने लगी
फूल गुले चमन की सूखी, दर्द मुझे होने लगी ॥
(१०)





पूरा जाम नहीं ,अधरों पर लगा
शबनम का एक कतरा काफी है , मेरी मदहोशी के लिए ।
"आ ! मुझ पर बैठ , फूलों ने तितलियों से कहा
अब नहीं उड़ाउगा तुझे ,माफ़ कर मेरी गुस्ताखी के लिए ॥
(११)

पीकर हो गया मदमस्त इतना , तेरे उर का ये प्याला
लालटेन लाने गया था , जुगनू पकड़ कर ले आया

(१२)

बड़ा वबंडर मचा दिया आपने ,जरा सा उनकी जीभ क्या फिसली
जिस कैसेट का भाषण सुना आपने , वो चीज थी ही नकली ॥

2 टिप्‍पणियां:

  1. हवाओ ने छुआ तुम्हें ,सिहरन मुझे होने लगी
    फूल गुले चमन की सूखी, दर्द मुझे होने लगी ॥//
    waah pandey jee... aapka jawaaz nahi

    उत्तर देंहटाएं

मेरे बारे में